अंतर्ध्वनि@ब्रेKing : चौथे वन-डे में भारत ने इंडीज को 224 रन से रौंदा

0
33
रोहित की धमाल पारी, रिकॉर्ड 07वीं मर्तबा पार किया 150 रन का स्कोर
सचिन के 195 छक्कों का रिकॉर्ड भी तोड़ा, 211 छक्कों के साथ अब धोनी ही आगे, भारत ने 05 मैचों की सीरीज में 2-1 से बनाई बढ़त, बृहस्पतिवार को करो-मरो का मुक़ाबला
मुंबई : बल्लेबाजों और गेंदबाजों के लाजवाब प्रदर्शन के दम पर भारत ने वेस्टइंडीज को चौथे वनडे में 224 रन से करारी मात दी। इस जीत के साथ भारत ने 05 मैचों की सीरीज में 2-1 से बढ़त हासिल कर ली है। गुवाहाटी में खेले गए पहले मैच में भारत ने जीत दर्ज की थी। जबकि, विशाखापट्टनम में खेला गया दूसरा वनडे टाई हो गया था। वहीं, तीसरे मैच में वेस्टइंडीज को जीत मिली थी। मुंबई के ब्रेबॉर्न स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 05 विकेट के नुकसान पर 377 रन का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा किया। लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज की टीम 36.2 ओवर में 153 रन पर ढेर हो गई। ब्रेबॉर्न स्टेडियम में 12 साल बाद कोई अंतर्राष्ट्रीय वनडे मैच खेला गया।
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने रोहित शर्मा (162) और अंबाती रायडू (100) की शानदार पारियों की बदौलत मजबूत स्कोर बनाया। भारत की शुरुआत अच्छी रही। पारी का आगाज करने आए रोहित शर्मा और शिखर धवन (38) ने पहले विकेट के लिए 71 रन की साझेदारी की। कीमो पॉल ने धवन को आउट कर इस साझेदारी को तोड़ा। इसके बाद बल्लेबाजी के लिए आए विराट कोहली ज्यादा क्रीज पर नहीं टिक पाए और सिर्फ 16 रन बनाकर आउट हो गए। कोहली 17वें ओवर में विकेट गंवा बैठे।
रोहित ने एक छोर संभाले रखा। उन्होंने तीसरे विकेट के लिए केदार जाधव के साथ 211 रन की अहम साझेदारी की और टीम को 300 रन के पार पहुंचाया। रोहित के 44वें ओवर में आउट होने के बाद रायडू 48वें ओवर में पवेलियन लौट गए। पांचवें नबंर पर बल्लेबाजी के लिए आए धोनी एक बार फिर जल्द आउट हो गए। उन्होंने 15 गेंदों में 2 चौकों की मदद से महज 23 रन बनाए। केदार जाधव (16*) और रवींद्र जडेजा (7*) नाबाद रहे।
चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए आए अंबाती रायडू ने बेहतरीन शतकीय पारी खेली। उन्होंने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए 81 गेंदों में 100 रन बनाए। उन्होंने इस दौरान 8 चौके और 4 छक्के मारे। 48वें ओवर में रन आउट हो पवेलियन लौटे। रायडू के वनडे करियर का यह तीसरा शतक है। उन्होंने 51 गेंदों में अर्धशतक बनाया था। रायडू, विराट कोहली के पवेलियन लौटने के बाद क्रीज पर आए और रोहित शर्मा का बखूबी साथ दिया। उन्होंने सीरीज के दूसरे वनडे में 73 रन की पारी खेली थी। पहले मैच में 22 रन बनाकर नाबाद रहे और तीसरे मैच में वह 22 रन बनाकर आउट हो गए थे।
पारी का आगाज करने आए रोहित शर्मा ने शानदार शतकीय पारी खेली। उन्होंने वनडे करियर का 21वां शतक जड़ते हुए 162 रन बनाए। रोहित ने रिकॉर्ड 7वीं बार 150 रन का आंकड़ा पार किया। ऐसा करने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बने। रोहित ने 137 गेंदों की अपनी पारी में 20 चौके और 4 छक्के लगाए। रोहित ने सचिन के 195 छक्कों का रिकॉर्ड भी ध्वस्त किया। धोनी (211 छक्के) ही अब रोहित से आगे हैं। रोहित को एश्ले नर्स ने 44वें ओवर में चंद्रपॉल हेमराज के हाथों लपकवाया। रोहित ने 98 गेंदों में शतक पूरा किया था। उन्होंने रायडू के साथ तीसरे विकेट के लिए 211 रन की अहम साझेदारी की। रोहित ने सीरीज के पहले मैच में नाबाद 152 रन की पारी खेली थी। लेकिन दूसरे और तीसरे वनडे में दहाई का आंकड़ा भी नहीं कर पाए थे।
सीरीज के तीन मैचों में लगातार शतकीय पारी खेलने वाले कप्तान विराट कोहली जल्द पवेलियन लौट गए। शिखर धवन के आउट होने के बाद बल्लेबाजी के लिए कोहली से फैंस को फिर बड़ी उम्मीद थी। हालांकि, इस मर्तबा वह महज 16 रन बना पाए। उन्हें केमार रोच ने 17वें ओवर की चौथी गेंद पर आउट किया। रोच की गेंद को क्रीज पर पड़ने के बाद भांप नहीं पाए और गेंद बल्ले से लग कर विकेटकीपर शाई होप के दस्तानों में चली गई। कोहली ने सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया है। पहले मैच में 140, दूसरे मैच में 157* और तीसरे मैच में 107 रन की पारी खेली थी। चौथे मैच में भी शतक जमाते तो श्रीलंकाई खिलाड़ी कुमार संगाकरा के लगातार चार शतक जड़ने के रिकॉर्ड की बराबरी कर लेते। कोहली से पहले कोई भारतीय बल्लेबाज वनडे क्रिकेट में शतकों की हैट्रिक नहीं लगा पाया था।
अच्छी शुरुआत का भारत ने भरपूर फायदा उठाया और तेजी से अपना सैकड़ा पूरा किया। धवन के आउट होने के बाद रोहित ने कोहली के साथ मोर्चा संभाला। दोनों ने संभलकर बल्लेबाजी करते हुए 98 गेंदों में 100 रन बनाए। इससे पहले टीम ने 48 गेंदों में बिना विकेट गंवाए 50 रन पूरे किए थे। हालांकि, सलामी बल्लेबाज शिखर धवन फिर बड़ी पारी नहीं खेल पाए और अर्धशतक जड़ने से चूक गए। वह 38 रन बनाकर विकेट गंवा बैठे। धवन ने 40 गेंदों में 4 चौके और 2 छक्के लगाए। उन्हें 12वें ओवर में कीमो पॉल ने पवेलियन की राह दिखाई। वह पॉल की गेंद पर बड़ा शॉट मारना चाहते थे लेकिन कायरन पॉवेल के हाथों लपक गए। धवन इस सीरीज में अब तक एक भी अर्धशतक नहीं जमा पाए हैं। वह पहले मैच में जहां महज 4 रन बनाकर आउट हो गए तो दूसरे और तीसरे वनडे में 29 और 35 रन की पारी खेली थी।
पहले पॉवर प्ले के 10 ओवरों में भारत ने शानदार बल्लेबाजी की। ओपनर रोहित शर्मा और शिखर धवन ने टिक कर बल्लेबाजी की और बिना हड़बड़ी दिखाए रन जुटाए। दोनों ने पॉवर प्ले में टीम के लिए 56 रन जोड़े। वेस्टइंडीज के गेंदबाज पॉवर प्ले में प्रभावी गेंदबाजी नहीं कर पाए और मेहमान टीम के गेंदबाजों को कोई सफलता हाथ नहीं लगी। गेंदबाजी की कमान केमार रोच ने संभाली। पॉवर प्ले में रोच और जेसन होल्डर ने 4-4 ओवर फेंके और एश्ले नर्स ने 2 ओवर डाले।
वेस्टइंडीज की शुरुआत बेहद खराब रही और पहला झटका 20 के स्कोर पर लगा। वेस्टइंडीज की खस्ता हालत का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि आधी टीम 47 के स्कोर पर पवेलियन लौट गई। कप्तान जेसन होल्डर को छोड़कर कोई भी बल्लेबाज टिक कर बल्लेबाजी नहीं कर सका। वह 54 रन बनाकर नाबाद लौटे। वेस्टइंडीज के पांच खिलाड़ी तो दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके। वेस्टइंडीज की ओर से केमार रोच (6) आउट होने वाले अंतिम बल्लेबाज रहे। भारत की तरफ से सबसे शानदार गेंदबाजी खलील अहमद और कुलदीप यादव ने की। खलील और कुलदीप ने 3-3 विकेट चटकाए। इसके अलावा जसप्रीत बुमराह और रवींद्र जडेजा को एक-एक विकेट मिला। वेस्टइंडीज के दो खिलाड़ी रन आउट हुए।
वेस्टइंडीज के अनुभवी ऑराउंडर मार्लन सैमुअल्स एक बार फिर सस्ते में आउट हो गए। वह महज 18 रन बना विकेट गवां बैठे। उन्हें 14वें ओवर में खलील अहमद ने पवेलियन की राह दिखाई। वह खलील की गेंद पर शॉट मारने की फिराक में स्लिप में खड़े रोहित शर्मा के हाथों लपके गए। पिछले मैच में भी सैमुअल्स को खलील ने 14वें ओवर में ही आउट किया था। सैमुअल्स का विकेट 56 के स्कोर पर गिरा। सैमुअल्स इस सीरीज में अब तक बल्ले से प्रभावी प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। पहले मैच में जहां वह बिना खाता खोले आउट हो गए वहीं, दूसरे वनडे में उन्होंने सिर्फ 13 और तीसरे में 9 रन रन बनाए।
वेस्टइंडीज की टीम पहले पॉवर प्ले के 10 ओवरों में लड़खड़ा गई। वेस्टइंडीज ने निराशाजनक आगाज किया और 20 के स्कोर पर ही पहला विकेट गंवा दिया। इसके बाद उसके दो और बल्लेबाज भी इसी स्कोर पर रन आउट होकर पवेलियन लौट गए। 10वें ओवर की तीसरी गेंद पर वेस्टइंडीज को एक और झटका लगा। वेस्टइंडीज ने पॉवर प्ले में खराब बल्लेबाजी की और उसने 45 रन जोड़कर चार विकेट खो दिए। पॉवर प्ले में भुवनेश्वर कुमार ने 5, जसप्रीत बुमराह ने 4 और खलील अहमद ने 1 ओवर डाला।
पिछले तीन मैचों में वेस्टइंडीज के लिए रन बनाने वाले शिमरॉन हेटमायर का बल्ला नहीं चला। वह 13 रन बनाकर विकेट गवां बैठे। उन्हें 10वें ओवर में खलील अहमद ने पवेलियन की राह दिखाई। खलील की गेंद को पिच पर पड़ने के बाद समझ नहीं पाए और एलबीडब्ल्यू आउट हो गए। सीरीज के पहले मैच में हेटमायर ने 106, दूसरे में 94 और तीसरे मैच में 37 रन की पारी खेली थी।
वेस्टइंडीज को पांचवें ओवर में दो झटके लगे। चंद्रपॉल और पॉवेल ने कैरेबियाई टीम को सधी हुई शुरुआत देने की कोशिश की। चार ओवर में 20 रन बनाने के बाद पांचवें ओवर में चंद्रपॉल 14 रन बनाकर भुवी की गेंद पर लपके गए। इसके बाद बल्लेबाजी करने आए शाई होप कुलदीप के सटीक थ्रो पर खाता खोले बगैर पवेलियन लौट गए। ऐसे में अचानक दो विकेट गंवाकर केरैबियाई टीम बैक फुट पर आ गई। 20 के स्कोर पर ही वेस्टइंडीज की टीम ने तीसरा विकेट भी खो दिया। इस बार विराट का सटीक थ्रो पॉवेल को पवेलियन वापस भेजने के लिए काफी साबित हुआ। पॉवेल ने 4 रन बनाए।
पिछले मैच में शानदार गेंदबाजी करने वाले वेस्टइंडीज के गेंदबाज प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे। गेंदबाजों को विकेट के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा और उन्हें निर्धारित 50 ओवरों में सिर्फ 5 विकेट मिले। वेस्टइंडीज के गेंदबाजों ने शुरुआती दो विकेट 17 ओवर के अंदर हासिल कर लिए। लेकिन इसके बाद भारतीय बल्लेबाजों ने 44वें ओवर तक उन्हें खुश होने का मौका नहीं दिया। केमर रोच ने दो विकेट चटकाए। वहीं, एश्ले नर्स कीमो पॉल ने एक-एक विकेट हासिल किया। जेसन होल्डर, रोवमन पॉवेल, फेबियन एलेन और मार्लोन सैमुएल्स को कोई कामयाबी नहीं मिली।