संयुक्त ब्राह्मण महासभा 101 बटुकों का सामूहिक यज्ञोपवीत संस्कार 19 मई को कराएगी

0
36

बटुकों के पंजीकरण की अंतिम तिथि है 10 मई

विवाह एवं जन्म आदि विभिन्न सामाजिक कार्यक्रमों में बढ़ रहे धन के अपव्यय को रोकने के उद्देश्य से संयुक्त ब्राह्मण महासभा में समाज को जागरूक करने के लिए हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी ब्राह्मण बालकों का एक मंडप के नीचे 101 सामूहिक यज्ञोपवीत संस्कार कराने का निर्णय लिया है।

सामूहिक यज्ञोपवीत संस्कार ज्येष्ठ प्रतिपदा संवत 2076 तदनुसार 19 मई 2019 दिन रविवार को आर्य कन्या पाठशाला इंटर कॉलेज, पिहानी चुंगी के परिसर में आयोजित किया गया है। यह निर्णय पूर्व विधायक और संयुक्त ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष लालन शर्मा की अध्यक्षता में कैनाल रोड स्थित परशुराम सभागार में हुई महासभा की बैठक में लिया गया। जनेऊ कराने वाले बटुकों के पंजीकरण की अंतिम तिथि 10 मई 2019 तय की गई है।

बैठक में संयुक्त महासभा के संयोजक कमलेश पाठक ने बताया कि पिछले एक दशक से सामाजिक समरसता हेतु विभिन्न संगठनों की सहभागिता से ब्राह्मणों के सामूहिक विवाह संस्कार कराए जा रहे हैं, जिसमें अब तक 1000 से अधिक बच्चों को संस्कारों के दीक्षा दी जा चुकी है। उसी परंपरा को आगे बढ़ाते हुए आगामी 19 मई को 101 बटुकों के सामूहिक यज्ञोपवीत कराने का लक्ष्य रखा गया है।

ब्राह्मण महासभा के वरिष्ठ सलाहकार अरुणेश बाजपेई ने बताया कि काशी, नैमिष, हरिद्वार से लेकर काठमांडू (नेपाल) से आने वाले विद्वानों एवं पुरोहितों के आचार्यत्व में वेदानुसार विधि विधान से जनेऊ संस्कार संपन्न कराए जाएंगे। इस अवसर पर विभिन्न तीर्थ स्थलों से आए साधु संत तथा विद्वान ब्राह्मणों द्वारा बच्चों को संस्कारों की दीक्षा भी दी जाएगी।

महामंत्री गिरीश बाजपेई ने कहा कि सामूहिक यज्ञोपवीत संस्कार में शामिल होने के लिए बटुकों के पंजीकरण प्रार्थना पत्र जमा करने की अंतिम तिथि 10 मई 2019 है। सामूहिक यज्ञोपवीत में भाग लेने वाले बटुकों को जहां महासभा की ओर से 5 वस्त्र प्रदान किए जाएंगे वहीं उनके साथ आने वाले परिजनों को संस्कार के बाद ब्रह्मभोज भी कराया जाएगा।

नगर पालिका अध्यक्ष ‘मधुर’ ने कहा कि समारोह में शिक्षा, साहित्य और सियासी जगत की विभूतियां भी उपस्थित रहेंगी। बैठक की कार्यवाही का संचालन महेश मिश्र ने किया।

बैठक में संस्था के उपाध्यक्ष डॉक्टर बीएस पांडेय, ओपी तिवारी, अवध बिहारी मिश्र, विमलेश दीक्षित, अवनिकान्त बाजपेई, डॉ राहुल तिवारी हरपालपुर, राजेश पाठक सांडी, शिव देव बाजपेई बाबरपुर, अरविंद त्रिवेदी पाली, गोपाल त्रिपाठी शाहाबाद, राजेंद्र त्रिवेदी बैजूपुर, अवधेश तिवारी हरपालपुर, डॉ कपिल देव त्रिपाठी बिलग्राम, अजय पांडेय सवायजपुर और विवेक मिश्र पांडेय पुरवा मौजूद रहे।