संयुक्त ब्राह्मण महासभा के तत्वावधान में 101 वटुकों के संपन्न हुए उपनयन संस्कार

0
17

मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद डॉ अशोक बाजपेई व विशिष्ट अतिथि न्यायाधीश अविनाश पांडेय रहे मौजूद

दो हज़ार से अधिक ब्राह्मण पुरुषों व महिलाओं की मौजूदगी में सम्पन्न हुआ आयोजन

आर्य कन्या पाठशाला इंटर कॉलेज का पिहानी चुंगी परिसर रविवार को उस समय वेद मंत्रों और मंगल गीतों से गुंजायमान हो उठा जब वहां संयुक्त ब्राह्मण महासभा के तत्वावधान में विशाल मंडप के नीचे निर्मित अलग-अलग वेदियों पर 101 ब्राह्मण वटुकों के सामूहिक उपनयन संस्कार संपन्न हुए। यह संस्कार समारोह संयुक्त ब्राम्हण महासभा के अध्यक्ष पंडित लालन शर्मा की अध्यक्षता में संपन्न हुए। मुख्य अतिथि के रूप में राज्यसभा सांसद डॉ अशोक बाजपेई तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में बिहार से आए न्यायाधीश पंडित अविनाश पांडेय मौजूद थे। इस अवसर पर विद्यालय परिसर में उपस्थित दो हजार से अधिक ब्राम्हण पुरुषों व महिलाओं की उपस्थिति से मेला जैसा दृश्य नज़र आया। इस मनोहारी कार्यक्रम से शहर की फिजाओं में गुरुकुल कालीन संस्कृति परंपरा की बयार बही। एक लग्न मंडप में वैदिक संस्कृति एवं पर्यावरण संबंधी संदेश यज्ञ वेदी पर बैठे आचार्यों द्वारा वटुकों को दिया गया।

समारोह में मुख्य मंच के अतिरिक्त एक संस्कार मंच भी अलग से बनाया गया था जिन पर वाराणसी और नैमिष के आचार्यों के अतिरिक्त जनपदीय आचार्यों के स्वरों से गूंजती वेद ऋचाओं से साधु संतों और अपने अपने अभिभावकों के सानिध्य में जनेऊ धारण कर लोक कल्याण के लिए ब्रह्मचर्य संस्कार व्रत की दीक्षा ग्रहण करते हुए ब्राह्मण वटुकों में ब्राह्मणोचित्त संस्कार अपनाने की प्रतिज्ञा ली। समारोह में पधारने वाले सभी लोगों का मस्तक पर चंदन लगा कर स्वागत किया गया। मंचासीन मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथि तथा अन्य लोगों को माला पहनाकर व शाल ओढ़ाकर स्वागत किया गया।

मुख्य अतिथि डॉ अशोक वाजपेई ने अपने संबोधन में संयुक्त ब्राह्मण महासभा के इस समारोह की मुक्त कंठ से सराहना करते हुए इसे संस्कृति के पुनर्जीवन यज्ञ की संज्ञा दी और वटुकों के उज्जवल भविष्य की कामना की। उन्होंने भौतिकता की अंधी दौड़ में सामाजिक संस्कारों को बचाए रखने की अपील की। विशिष्ट अतिथि न्यायाधीश अविनाश पांडे ने कहा कि ब्राह्मण जन्म से नहीं वरन अपने कर्मों से महान है। उन्होंने शिक्षाविद, इतिहासकार, गणितज्ञ, दानवीर और स्वाभिमानी दरिद्र मित्र के रूप में ब्राह्मणों के नाम गिनाते हुए कहा कि ब्राह्मणों ने सदैव समाज को दिशा देने का काम किया है। भाजपा जिलाध्यक्ष सौरभ मिश्र ने ब्राह्मणों की एकता पर बल देते हुए संयुक्त ब्राह्मण महासभा के प्रयासों की भरपूर सराहना की। प्रारंभ में महासभा के उपाध्यक्ष डॉक्टर वी.एस पांडेय ने सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए जनेऊ के वैज्ञानिक और सांस्कृतिक महत्व को बताया। कार्यक्रम का संचालन महेश मिश्र ने किया तथा अंत में सभी को धन्यवाद देते हुए पारुल दीक्षित ने ब्रह्मभोज प्रसाद ग्रहण करने का निवेदन किया।

समारोह में यूं तो समाज के विभिन्न वर्गों के अनेक विशिष्ट जन उपस्थित रहे परंतु फिर भी विशेष रूप से महासभा के संयोजक कमलेश पाठक, वरिष्ठ सलाहकार अरुणेश बाजपेई, शिक्षक विधायक उमेश द्विवेदी, विधायक मानवेंद्र प्रताप सिंह ‘रानू’, पूर्व विधायक सुरेंद्र कुमार दुबे, पूर्व विधायक धर्मज्ञ मिश्र, विहिप जिलाध्यक्ष विमलेश दीक्षित, शीतग्रह के अध्यक्ष अमित दीक्षित, आप और हम चेतना मंच के युवा मोर्चा के अध्यक्ष विकास पाठक, शिक्षाविद ओमप्रकाश तिवारी, अविनाश मिश्रा, डॉ राजेश मिश्रा, अवध बिहारी मिश्रा, गिरीश वाजपेयी, हनुमान मिश्रा, डॉ शीला पांडेय, सीमा मिश्र तथा निधि शुक्ला समेत अनेक विशिष्ट जन मौजूद रहे।