अयोध्या सिंह उपाध्याय का नाम खड़ी बोली को काव्य भाषा के पद पर प्रतिष्ठित करने वाले कवियों में बहुत आदर से लिया जाता है। उन्नीसवीं शताब्दी के अन्तिम दशक में 1890 ई. के आस-पास अयोध्यासिंह उपाध्याय ने साहित्य सेवा के क्षेत्र में पदार्पण किया।

आज ही के दिन 1947 में उनका निधन हुआ था। हमारी उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि।