27 अगस्त : अमर गायक मुकेश आज ही के दिन नहीं रहे थे

0
23

मुकेश का जन्म दिल्ली में हुआ था। इनका विवाह ‘सरल’ के साथ हुआ था। मुकेश और सरल की शादी 1946में हुई थी। मुकेश के एक बेटा और दो बेटियाँ हैं, जिनके नाम है:- नितिन, रीटा और नलिनी। मुकेश के पोते ‘नील नितिन मुकेश’ बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता हैं। इनके पिता जोरावर चंद्र माथुर अभियंता थे। दसवीं तक शिक्षा पाने के बाद पी.दबलेव
डब्ल्यू.डी. दिल्ली में असिस्टेंट सर्वेयर की नौकरी करने वाले मुकेश अपने स्कूली दिनों में अपने सहपाठियों के बीच के. एल. सहगल के गीत सुना कर उन्हें अपने स्वरों से सराबोर किया करते थे किंतु विधाता ने तो उन्हें लाखों करोड़ों के दिलों में बसने के लिये अवतरित किया था। सो विधाता ने वैसी ही परिस्थितियाँ निर्मित कर मुकेश को दिल्ली से मुम्बई पहुँचा दिया।

मुकेश के बेटे नितिन मुकेश के अनुसार, वे प्रतिदिन 5 बजे सोकर उठते थे, भले ही वे 15 मिनट पहले ही सोने के लिए गए हों। एक-दो घंटे रियाज़ करने के बाद बगल के बगीचे में टहलते थे। वहां वह हर एक फूल को बड़े प्यार से देखते थे, मानो अपने किसी साथी से बातें कर रहे हों। वे भगवान श्रीराम के परम भक्त थे और प्रतिदिन सुबह रामचरित मानस का पाठ किया करते थे, जिसे वे हमेशा अपने पास रखते थे। मुकेश यह कतई नहीं चाहते थे कि नितिन मुकेश एक गायक बने। वे हमेशा कहते थे कि गायन एक सुंदर रुचिकर, मगर बड़ा कष्टदायक व्यवसाय है। वे प्रत्येक स्टेज शो की समाप्ति पर नितिन की तारीफ़ उनकी माता सरल मुकेश से किया करते थे और कहते थे, आज तो आपके साहबजादे ने अपने पापा से भी ज्यादा तालियां पा लीं। मुकेश को अपने दो गीत बेहद पसंद थे- “जाने कहां गए वो दिन….” और “दोस्त-दोस्त ना रहा..।”

27 अगस्त 1976 को वे नहीं रहे। शत शत नमन।