मुथु लक्ष्मी रेड्डी भारत की प्रसिद्ध महिला चिकित्सक, सामाजिक कार्यकर्ता और पद्म भूषण प्राप्तकर्ता थीं। वे भारत की प्रथम महिला विधायक थीं। उनके ऊपर स्वामी विवेकानंद और महात्मा गाँधी के विचारों का बड़ा प्रभाव था। उन्होंने समाज सेवा में विशेषत: महिलाओं और बच्चों के कल्याण की अनेक योजनाएँ आरम्भ की थीं।

डॉ. मुथु लक्ष्मी रेड्डी ने अनेक क्षेत्रों में अग्रणी होने के कारण बड़ी प्रसिद्धि और सम्मान पाया। लड़कों के स्कूल में पढ़ने वाली पहली लड़की, डॉक्टर बनने वाली पहली महिला, विधान सभा की पहली सदस्य और उपाध्यक्ष बनने वाली पहली महिला वही थीं। मुथु लक्ष्मी रेड्डी का जन्म 30 जुलाई सन 1886 को दक्षिण की पुडुकोता रियासत, मद्रास (आज़ादी से पूर्व) में हुआ था। रियासत में शिक्षा पाने वाली वे पहली छात्रा थीं। माता-पिता उन्हें अधिक शिक्षित करने के पक्ष में नहीं थे। अपनी योग्यता से उन्होंने रियासत की छत्रवृत्ति प्राप्त की और 1912 में मद्रास मैडिकल कॉलेज से विशेष योग्यता के साथ प्रथम श्रेणी में डॉक्टर की डिग्री ले ली।

आज उनके जन्मदिन पर उन्हें शत शत नमन।

फेसबुक से टिप्पणी करें