करीब 4 दशकों बाद हरदोई में दशहरा पर फूंका जाएगा रावण

0
101
लगभग 4 दशकों के बाद हरदोई में दशहरा सप्ताह में रामलीला का हुआ शुभारंभ
ज़िलाधिकारी के भागीरथ प्रयास से ही हो पाया है संभाव्य
ज़िलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया मेले का शुभारम्भ
कल शाम जनपद में शारदीय नवरात्र के अवसर पर नुमाइश मैदान में ज़िला प्रशासन द्वारा जनपद वासियो को सौगात के रूप में लगाये गये दशहरा महोत्सव एवं रामलीला मेले का शुभारम्भ ज़िलाधिकारी पुलकित खरे एवं पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी ने संयुक्तरूप से दीप प्रज्ज्वलित कर एवं श्रीराम, लक्ष्मण एवं माता सीता की आरती उतार कर करते हुए जनपद वासियों से कहा कि दशहरा महोत्सव एवं रामलीला मेला का आयोजन 11 अक्टूबर से 19 अक्टूबर 2018 तक किया जा रहा है।
शुभारम्भ के अवसर पर ज़िलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक ने रंग बिरंगे गुब्बारों को आकाश में छोड़कर तथा कबूतरों को उड़ाकर किया। उन्होने कहा कि इस मेले में मर्यादा पुरूषोत्तम राम के जीवन पर आधारित रामलीला का मंचन किया जायेगा, तथा जनपद वासियों से आग्रह किया कि अपने परिवार के साथ पूरे नौ दिनो तक मेले का आनन्द लेते हुए नित नई जानकारियों एवं ज्ञान को अर्जित करें। उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि मेले में अपने साथ बच्चों एवं बुज़ुर्गों को अवश्य लाये जिससे उन्हे एक नई सीख मिल सके।
मेले के शुभारम्भ अवसर पर अन्तर्ध्वनि व जी-टेन संस्था के संयुक्त तत्वावधान में बच्चो द्वारा रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। कार्यक्रमों में स्प्रिंग डेल्स स्कूल, हर्षित एंड ग्रुप, जूनियर हाई स्कूल बरहा के ग्रुप डांस, मानसी कश्यप एंड टीम व कस्तूरबा संडीला के डुएट, शुक्ला ब्रदर्स की सिंगिंग परफॉर्मेंस, अधिराज सिंह का सोलो डांस, वैष्णवी रस्तोगी की सोलो सिंगिंग परफॉर्मेंस को काफी सराहना मिली। संचालन कुलदीप द्विवेदी ने किया।
दशहरा महोत्सव एवं रामलीला मेले में पूरे नौ दिनो तक अनेक कार्यक्रम प्रस्तुत किये जायेंगे। जिसमें कल गणेश पूजन, लक्ष्मी नारायण की आरती, नारद मोह तथा मनु सतरूप चरित्र का मंचन किया गया।
इसी प्रकार 12 अक्टूबर को रावण द्विग विजय, पृथ्वी पुकार एवं रामजन्म का मंचन किया जायेगा। 13 अक्टूबर को विश्वामित्र आगमन, ताड़का वध, मारीच सुबाहु वध, 14 अक्टूबर को अहिल्या उद्वार, नगर दर्शन, गंगा दर्शन, पुष्पवाटिका का मंचन किया जायेगा। 15 अक्टूबर को धनुष भंग, सीता स्वयंबर, लक्ष्मण परशुराम संवाद तथा 16 अक्टूबर को मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम चन्द्र जी की बारात, राम विवाह व 17 अक्टूबर को राम वनवास, निषाद मिलन, केवट संवाद, दशरथ मरण एवं भरत मिलाप तथा 18 अक्टूबर को सीता हरण, सुग्रीव मित्रता, लंका दहन,विभीषण शरणागति एवं अंगद रावण संवाद का मंचन किया जायेगा। इस मेले के अन्तिम दिन लक्ष्मण शक्ति, कुम्भकरण वध, मेघनाथ वध तथा रावण वध एवं राज्याभिषेक का मंचन किया जायेगा।
इस अवसर पर ज़िलाधिकारी ने कहा कि दशहरा मेला जहाॅ एक तरफ अपनी संस्कृति सभ्यता एवं इतिहास का बोध कराएगा वहीं दूसरी तरफ सृजनात्मक कार्यक्रमों की झलकियां भी प्रस्तुत करता दिखाई देगा।
दोपहर के सेशन में होने वाली प्रतियोगिताओं की कड़ी में 12 अक्टूबर को स्वच्छता कोलाज प्रतियोगिता, 13 अक्टूबर को मेंहदी प्रतियोगिता, 14 अक्टूबर को व्यंजन प्रतियोगिता, 15 अक्टूबर को फेस पेंटिंग प्रतियोगिता, 16 अक्टूबर को फैन्सी ड्रेस प्रतियोगिता, 17 अक्टूबर को विराट दंगल, 18 अक्टूबर को स्थानीय कलाकारों द्वारा कार्यक्रम किया जायेगा। 19 अक्टूबर को पुरस्कार वितरण, रावण वध एवं समारोह का समापन किया जायेगा। 
दशहरा मेला शुभारम्भ के अवसर पर नगरपालिका अध्यक्ष सुखसागर मिश्रा ‘मधुर’, मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार, अपर ज़िलाधिकारी संजय कुमार सिंह, नगर मजिस्ट्रेट सतीश त्रिपाठी, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट एकता सिंह, जिला विकास अधिकारी राजितराम मिश्र सहित समस्त जनपद स्तरीय अधिकारी, कर्मचारी, बुद्विजीवी, शहरवासी एवं मेला कमेटी के सदस्यगण उपस्थित रहे।