अपने दो दिन के दौरे पर लखनऊ पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को उत्तर प्रदेश के लिए 60 हजार करोड़ रुपए से अधिक की 81 परियोजनाओं का शिलान्यास किया है।
इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा कि कुछ लोग कह रहे हैं कि प्रदेश में इतना बड़ा निवेश ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी है। जबकि मैं कहता हूं ये रिकॉर्ड ब्रेकिंग सेरेमनी है। इस मौके पर पीएम मोदी के साथ केंद्रीय गृह मंत्री और लखनऊ से सांसद राजनाथ सिंह के अलावा यूपी के राज्यपाल राम नाइक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उपस्थित रहे।
शिलान्यास कार्यक्रम में पीएम मोदी ने विरोधियों पर तीखा वार करते हुए कहा कि जब आपके इरादे नेक हों तो डर नहीं लगता है। पर्दे के पीछे काम करने वाले डरते हैं। महात्मा गांधी का जीवन इतना पवित्र था लेकिन उनको बिड़ला जी के साथ रहने में कभी दिक्कत नहीं हुई। इसलिए अगर नीयत साफ हो तो किसी भी उद्योगपति से मिलने में कोई हर्ज नहीं है। हम उद्योग और उद्योगपतियों से नहीं डरते हैं। देश के उद्योगपतियों की देश बनाने में अहम भूमिका रहती है।
पीएम ने कहा कि हां, जो ग़लत काम करेगा उसको या तो देश छोड़कर भागना होगा या जेल में जिंदगी गुजारनी होगी। हम एक ऐसी व्यवस्था खड़ी करना चाहते हैं जहां किसी प्रकार की कोई भेदभाव की गुंजाइश ना हो। सबके साथ समान व्यवहार, कोई छोटा बड़ा नहीं। शिलान्यास को लेकर कहा कि ये प्रोजेक्ट्स डिजिटल इंडिया और मेक इन इंडिया को नए आयाम देने में अहम भूमिका निभाएंगे। चाहे वो यूपी में इंटरनेट सर्विस पहुंचाने के लिए फाइबर केबल बिछाना हो या फिर आईटी सेंटर स्थापित करना हो।
पीएम ने कहा कि मैं किसानों का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं जिन्होंने इन परियोजनाओं के लिए अपनी ज़मीन दी। इसमें पटवारियों की भी अहम भूमिका रही है क्योंकि उन्होंने भी अपनी ज़मीनें दी हैं। वहीं यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस दौरान बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस के बाद बुंदेलखंड में भी एक्सप्रेस वे की शुरुआत कर रहे हैं।
फेसबुक से टिप्पणी करें