परेशानी के दिन बीते, सैमसंग बनाने जा रहा है ना टूटने वाला डिस्प्ले, जल्द ही उतारेगा बाज़ार में

0
61

इन OLED पैनल्स को इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट्स जैसे ऑटोमोबाइल, मोबाइल मिलिट्री डिवाइस, पोर्टेबल गेम कंसोल और टैबलेट पीसी में इस्तेमाल किया जाएगा

सैमसंग अपने सुपर एमोलेड डिस्प्ले के लिए जाना जाता है जहां अब इसके अनब्रेकेबल फ्लेक्सिबल स्क्रीन पैनल को भी सर्टिफाई कर दिया गया है। सैमसंग न्यूज़रूम यूएस वेबसाइट की मानें तो नया फ्लेक्सिबल OLED पैनल अंडरराइटर्स लैबोरेटररिज़ के ज़रिए सर्टिफाई किया गया है। टेस्टिंग कंपनी OSHA (the Occupational Safety and Health Administration of the U.S. Department of Labor) ने कहा कि इन OLED पैनल्स को इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट्स जैसे ऑटोमोबाइल, मोबाइल मिलिट्री डिवाइस, पोर्टेबल गेम कंसोल और टैबलेट पीसी में इस्तेमाल किया जाएगा।

फर्म ने कहा कि नया अनब्रेकेबल फ्लेकस्बिल OLED पैनल अब अनब्रेकबेल सब्सट्रेट के साथ आएगा जिसको एक ओवरले विंडो सुरक्षित रखेगा। ये ठीक करेंट जेनरेशन के फ्लेक्सिबल डिस्प्ले की तरह ही है जहां डिस्प्ले पर ग्लास विंडो का प्रोटेक्शन रहता है जो किसी चीज के कॉंटैक्ट में आने से टूटता है। सैमसंग डिस्प्ले कंपनी के जनरल मैनेजर होजंग किम ने कहा कि, प्लास्टिक विंडो की अगर बात करें तो ये पोर्टेबल इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के लिए सक्षम होता है। ये इसलिए सक्षम नहीं होता कि ये न टूटे बल्कि ये अपने लाइटवेट, हार्डनेस के लिए जाना जाता है। जो एक ग्लास की तरह ही होता है।

अंडरराइटर्स लैबोरेटरीज ने कहा कि सैमसंग डिस्प्ले ने यूएस डिपार्टेमेंट ऑफ डिफेंस के जरिए किए गए टेस्ट को पास किया है। कंपनी ने कहा कि डिस्प्ले के साथ एक ड्रॉप टेस्ट भी किया गया जहां ग्लास को 4 फीट की ऊंचाई से फेंका गया और 71 डिग्री से -32 डिग्री के तापमान से छोड़ा गया। जिसके बाद पैनल को कोई नुकसान नहीं पहुंचा और पैनल पूरी तरह से ठीक काम करता रहा।

आपको बता दें कि ऐसा डिस्प्ले सैमसंग के लिए के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है क्योंकि कंपनी पहले से ही फ्लेक्सिबल स्मार्टफोन पर काम कर रही है। हाल के रिपोर्ट पर अगर गौर करें तो सैमसंग डिस्प्ले कोरिया के आसान में एक पायलट लाइन लगाने की योजना बना रही है जिसके ठीक बाद सैमसंग ऐसे पैनल्स को बनाने के काम में लग जाएगा। कंपनी ने कहा है कि इस साल के अंत तक वो 10,000 पैनल्स बना देगा तो वहीं अगले साल तक ये आंकड़ा 1 लाख तक पहुंच जाएगा।