धरना स्थल पर एस डी एम ने दिखाई तुनकमिजाज़ी तो अभी कुरसठ पहुंचे एडीएम ने लगाया मलहम

0
102
प्रदुम्न तिवारी ‘माधौगंज’
दो सूत्रीय मांगों को लेकर आमरण अनशन पर बैठी महिलाओं को एसडीएम ने धरना स्थल पर पहुँच कर उनकी समस्याओं का निराकरण करने के बजाय अपने तेवर दिखाते हुए पुलिस से कहकर उन्हें धरना से हटवा दिया। धरने पर बैठी महिलाओं ने दूसरे दिन फिर से नगर पंचायत कार्यालय पर डेरा डाल दिया। उन्होंने कहा कि अनिश्चितकालीन धरना जारी रहेगा। एसडीएम की ओर से की गई वार्ता का वीडियो वायरल हुआ जिसमें वोट दूसरे को देने, आवास दूसरों से मांगने व शराब पीकर वोट देने की बात एसडीएम ने कही है। यह वीडियो देखकर लोग तरह तरह की चर्चा कर रहे हैं।
नगर पंचायत कुरसठ कार्यालय पर सोमवार को लालती देवी के साथ शिवप्यारी, रेशमा राठौर, पुष्पा देवी, गुड्डी देवी आदि दर्ज़न भर से अधिक महिलाऐं आमरण अनशन पर बैठ गईं। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास अपात्रों को दिए जाने व भ्रष्टाचार की जांच कराकर दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही करने की मांग की थी। इसकी ख़बर जब प्रशासन को हुई तो उसी दिन देर शाम धरना स्थल पर एसडीएम बिलग्राम सतेन्द्र सिंह ने पहुंचकर धरने पर बैठी महिलाओ से वार्ता की । एस डी एम के सख़्त तेवर देखकर वह सकते में आ गईं। महिलाओं ने बताया कि ज़िम्मेदार अधिकारी होकर उन्होंने धरना स्थल से हट जाने की बात कही वहीं उन्होंने कहा कि वोट किसी को दिया और आवास दूसरे से मांग रही हो। शराब पर वोट दे देते हो जिसको वोट दिया वह कहाँ गया है उसे बुलाओ। इतना कहने के बाद महिलाओं से धरना समाप्त करने की बात कही। एसडीएम ने अपनी ज़िद पर अड़ी महिलाओं को नगर पंचायत कार्यालय से हटाने के आदेश दिए। पुलिसबल ने महिलाओं को वहां से हटा दिया। आज सुबह आक्रोशित महिलाओं ने दोबारा नगर पंचायत कार्यालय पर धरना शुरू कर दिया। एसडीएम के साथ हुई वार्ता का वीडियो वाइरल हो गया है जिसमे बिलग्राम एसडीएम ने अनशन कारियों को न्याय दिलाने के बजाय प्रशासनिक हनक दिखाई । जब कि प्रदेश व केंद्र सरकार गरीबों को आवास दिलाने के लिए प्रयासरत है।
समस्याएं सुनते एडीएम
बहरहाल अभी अभी पहुंचे एडीएम विमल अग्रवाल ने तहसीलदार को निर्देशित किया है कि आवास के पात्रों की पुनः लिस्ट बनाएं व वास्तविक पात्रों को ही स्थान दें।