संयुक्त कर्मचारी परिषद् के फायरब्राण्ड प्रदेश अध्यक्ष ने भाजपा सरकार को बताया दुष्ट

0
27
एसपी तिवारी : कर्मचारी व शिक्षकों का सम्मान न करने के चलते भाजपा को मिलता वनवास
कर्मचारी-शिक्षकों को किया आश्वस्त, पुरानी पेंशन बहाली की लड़ाई कठिन है, पर भरोसा जीतेंगे ज़रूर
प्रदेश में इन दिनों पुरानी पेंशन बहाली का मसला कर्मचारी और शिक्षक गरमाए हुए हैं। इस मुद्दे पर कर्मचारी-शिक्षक संगठनों के एक धड़े ने पिछले दिनों प्रदेशव्यापी 03 दिनी हड़ताल का एलान किया था, पर सरकार के सख्त तेवर देख बैकफुट पर चला गया था। वहीं, संयुक्त संघर्ष संचालन समिति (S-4) पुरानी पेंशन बहाली जन चेतना रथ यात्रा के जरिए प्रदेश भर में कर्मचारी-शिक्षकों के बीच पहुंच रहा है। यात्रा के तीसरे चरण के पहले दिन रथ आज हरदोई पहुंचा। मकसद के बारे में आम लोग भी जानें, इसलिए अलग-अलग शिक्षक संगठनों के प्रान्तीय नेता शहर की सीमा से सभा स्थल तक खुली जीप में वाहनों के लम्बे क़ाफ़िले के साथ सभा स्थल गांधी भवन पहुंचे।
कर्मचारी-शिक्षकों को सम्बोधित करते हुए कर्मचारी संयुक्त परिषद् और S-4 के प्रान्तीय अध्यक्ष एसपी तिवारी ने योगी सरकार पर सीधा और तीखा हमला बोला। तिवारी ने कहा, भाजपा की सरकारें बहुत दुष्ट होती हैं। योगी सरकार भी पुरानी पेंशन बहाल करने की मांग आसानी से मानने वाली नहीं है। लेकिन, हमारा भी इतिहास है कि मैदान गहने के बाद जीत कर ही घर लौटे हैं। चाहे वीर बहादुर सिंह से टकराव रहा हो या कल्याण सिंह से मुचैटा लिया हो, जेल गए, लेकिन झुके नहीं, टूटे नहीं। आख़िर झुकना सरकार को ही पड़ा और हमने हक़ हासिल किया। हालांकि, उन्होंने माना कि पुरानी पेंशन हासिल करने की लड़ाई बहुत कठिन है। लेकिन जोड़ा, कर्मचारी-शिक्षक ठान लें कि हक़ हासिल ही करना है तो इसके लिए अपने उन साथियों को जगाएं जो आज घरों में सो रहे हैं। आख़िर, लाभ केवल संघर्ष करने वालों को ही नहीं मिलना है। अगले महीने की 20 तारीख़ को कार्यालय-विद्यालय का ताला नहीं खोलें और लखनऊ के ईको पार्क की रैली को रेला बना दें। तिवारी ने कहा, वह रिटायर हैं और पुरानी पेंशन हासिल कर रहे हैं। अवस्था 74 वर्ष की है और हृदय रोगी हूं। लेकिन, हमारे बच्चों से न्याय हो और उन्हें उनका अधिकार, मिले इसीलिए सड़क पर उतरे हैं। ऐसे में बच्चे साथ नहीं देंगे तो निराशा होना स्वाभाविक है।
जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ व S-4 के प्रदेश संयोजक योगेश त्यागी ने कहा, वह भी पुरानी पेंशन का लाभ पाने वालों की श्रेणी में हैं। लेकिन, हमारे जिन साथियों को इस अधिकार से वंचित कर दिया गया है, उनकी ख़ातिर ही 02 महीने से प्रदेश की ख़ाक छान रहे हैं। दो चरण के सम्पर्क अभियान में जिन जिलों में गए, कर्मचारी-शिक्षकों से जबरदस्त रिस्पॉन्स मिला। तीसरे चरण के पहले दिन आज गृह जनपद में आए हैं। चूंकि, यह उनका घर है, इसलिए 20 दिसम्बर की रैली में हरदोई के प्रदर्शन को उनसे जोड़ कर देखा जाएगा। कहा, आज ही रथ यात्रा फर्रूखाबाद और कन्नौज पहुंचनी है। इसके बाद अन्य जनपदों में जाना है। प्रदेश के दौरे में व्यस्तता के चलते रैली की तैयारी में यहां समय देना मुश्किल है। इसलिए, बेसिक शिक्षक रैली की कामयाबी की जिम्मेदारी अपने कन्धों पर लें। पुरानी पेंशन बहाली कर्मचारी-शिक्षकों के बड़े वर्ग के भविष्य का प्रश्न है। रिटायर होने के बाद आर्थिक सुरक्षा का सवाल है। लिहाजा, इसे लेकर हमें संवेदनशील हो लड़ाई का सिपाही बनना है। पुरानी पेंशन हासिल करने का एक ही मन्त्र है, एकजुटता। त्यागी ने विश्वास जताया कि हरदोई से सर्वाधिक संख्या में कर्मचारी-शिक्षक 20 दिसम्बर को लखनऊ के ईको पार्क में एकत्रित होंगे। कोताही नहीं होगी, यह भरोसा है। कहा, 20 दिसम्बर को सत्ता प्रतिष्ठान की चूलें हिला दें, इसके बाद सरकार को हमारी मांग पूरी करने को बाध्य होना पड़ेगा।
कर्मचारी-शिक्षक सभा को S-4 के प्रदेश संरक्षक/प्राथमिक शिक्षक संघ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अभिमन्यु तिवारी, पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष रामतीर्थ मिश्रा, जूहा0 शिक्षक संघ प्रदेश महामन्त्री नरेश कौशिक, प्राथमिक शिक्षक संघ प्रदेश अध्यक्ष सुशील पाण्डेय, प्रदेश महामन्त्री जलवीर सिंह यादव, राज्य कर्मचारी परिषद प्रदेश महामन्त्री आरके निगम, पीएसपीए प्रदेश अध्यक्ष विनय सिंह, जूहा0 शिक्षक संघ प्रदेश उपाध्यक्ष अनन्त कुमार, संयुक्त मन्त्री विश्वपाल सिंह, खण्ड शिक्षा अधिकारी संघ के संरक्षक आरपी त्रिपाठी, अध्यक्ष श्री विश्वकर्मा, मृतक आश्रित शिक्षणेत्तर कर्मचारी संघ प्रदेश अध्यक्ष जुबैर अहमद, प्रदेश महामन्त्री पंकज बाजपेयी, प्रदेश महामन्त्री विनोद यादव, राज्य कर्मचारी परिषद् के प्रान्तीय नेता आरके वर्मा, जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ की जिलाध्यक्ष सुनीता त्यागी और प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष आलोक मिश्रा ने सभा को सम्बोधित कर कर्मचारी-शिक्षकों से 20 दिसम्बर को भारी तादाद में लखनऊ के ईको पार्क पहुंचने की अपील की। सभा में जिले के अधिकांश खण्ड शिक्षा अधिकारी मौजूद रहे। सभा का संचालन जूहा0 शिक्षक संघ के वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष धीरज अस्थाना ने किया।
जिला महामन्त्री संतोष अग्निहोत्री, कोषाध्यक्ष उदय मिश्रा, जिला उपाध्यक्ष सुनीता सिंह, संयुक्त मन्त्री मंजू वर्मा, मण्डल कोषाध्यक्ष शकील अहमद व उपाध्यक्ष धर्मेन्द्र सिंह, पिहानी ब्लॉक अध्यक्ष इक़रार अहमद, मनोज कुमार आदि व्यवस्था में रहे। रथ यात्रा का सण्डीला और खेतुई बाला जी मन्दिर के निकट भव्य स्वागत शिक्षकों ने किया। इसके बाद प्रान्तीय शिक्षक नेता खुली जीप में सवार हो शहर में विभिन्न मार्गों से होते हुए गांधी भवन पहुंचे।