मौन संदेश यात्रा में आज बताया गया कि माँ सरस्वती के आशीर्वाद से ही छात्र विद्वान बनकर ऊँचाइयाँ प्राप्त कर सकते हैं। हवन और मौन से इनकी उपासना करने से मूर्ख भी विद्वान् बन सकता है।

एस.डी.पब्लिक स्कूल (बिलग्राम), एस.एन. कॉलेज (माधौगंज), और कन्या जूनियर हाईस्कूल (मल्लावाँ) पहुँची “मौन संदेश यात्रा” में छात्र-छात्राओं को संदेश दिया गया कि बसन्त पंचमी के दिन 10 फरवरी, रविवार को प्रातःकाल स्नानोपरान्त हवन करके तीन घण्टों के लिए मौन हो जायें। नेचरोपैथ डॉ० राजेश मिश्र का मौनव्रत होने के कारण छात्रों को यात्रा-प्रवक्ता विजय भाई ने बताया कि मौन से स्मरण शक्ति बढ़ती है। कहा मौन धारण करके अपने अन्दर झाँको और जीवन को सफल बनाओ। डॉ० मिश्र का लिखित सन्देश छात्रों को दिया गया।

इस अवसर पर डॉ० कपिल देव त्रिपाठी, नगेन्द्र कुमार, नरेन्द्र सिंह, सुबोध कनौजिया, चन्द्रभाल, शैलेन्द्र कुमार, महेश चन्द्र, अमित कुमार, आशीष कुमार, रितिका, पूजा शर्मा, सुखरानी देवी, सुनीता देवी, बबली, कुन्ती, अर्चना कनौजिया, मधु, अमिता, रश्मि वर्मा तथा बड़ी संख्या में छात्र रहे।

फेसबुक से टिप्पणी करें

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here