धन्वन्तरि जयंती पर मलिहामऊ में बही आयुर्वेद, योग व पर्यावरण पर चर्चा की त्रिवेणी
मलिहामऊ के डॉ0 हरिशंकर मिश्र ग्रुप ऑफ़ कोलेजेज़ में आज भगवान धन्वन्तरि जयंती पर उनका पूजन हुआ। इस अवसर पर आयुर्वेद की उत्पत्ति एवं महत्व व पर्यावरण प्रदूषण निवारण विषय पर गोष्ठी के साथ विशाल योग शिविर का आयोजन हुआ। विद्वान वक्ताओं ने बताया समुद्र मंथन में निकले 14 रत्नों में एक भगवान धन्वन्तरि एक हाथ में औषधि और दूसरे में अमृत कलश लेकर प्रकट हुए। इन्हें आरोग्य का देवता कहा जाता है। उन्होंने ही अमृतमयी औषधियों की खोज की। धन्वन्तरि के प्राकट्य से लेकर उनके आयुर्वेद के महत्व पर वक्ताओं ने समग्र प्रकाश डाला। बताया, धन्वन्तरि को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है।
विद्यालय प्रबन्धक श्याम जी मिश्र और धनंजय मिश्र के अनुरोध पर पतंजलि योग समिति के योग शिक्षक हरिवंश सिंह, श्रीमती पाण्डेय, अर्युर्वेदाचार्य डॉ0 चंद्रप्रकाश अवस्थी, आयुर्वेदाचार्य बाल शास्त्री, उनके अग्रज वैद्याचार्य वाचस्पति मिश्र, आचार्य रामशंकर मिश्र, भूपेन्द्र अवस्थी, क्षेत्राधिकारी सदर विजय राना, सुरसा थानाध्यक्ष संतोष तिवारी और एडवोकेट गुंजन मिश्र ने दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। योग प्रशिक्षक हरिवंश सिंह ने महर्षि पतंजलि द्वारा प्रतिपादित अष्टांग योग और सातों चक्रों के विषय में विधिवत समझाया व योग के गुर सिखाये।
डॉ0 चंद्रप्रकाश अवस्थी ने ब्रम्हचर्य और मन की एकाग्रता का पालन कैसे किया जाए, इस विषय पर विस्तृत वक्तव्य दिया। वैद्याचार्य बालशास्त्री एवं उनके अग्रज वाचस्पति मिश्र ने जीवन को निरोग और शुचितापूर्ण रखने के तरीके बताए। श्याम जी मिश्र ने मंच संचालन करते हुए योग के सभी आयामों और प्राणायाम से किस तरह जीवन में आमूलचूल परिवर्तन कर दिव्यता हासिल करने के विषय पर व्याख्यान दिया। कहा, प्रत्येक वर्ष आज के दिन यह कार्यक्रम होगा। धनंजय और श्याम जी ने आयोजन के माध्यम से पिता आयुर्वेदाचार्य स्व0 डॉ0 हरिशंकर मिश्र व अग्रज विद्यालय संस्थापक स्व0 संजय मिश्र को श्रद्धांजलि अर्पित की।
क्षेत्राधिकारी सदर विजय राना ने दीपावली पर सतर्कता बरतने, पर्यावरण व स्वयं को किस तरह सुरक्षित रखा जाए, आने वाली पीढियों को किस तरह स्वच्छ वातावरण मिले, इस पर बात की। दीपावली पर किस तरह से ध्वनि व वायु प्रदूषण से पर्यावरण को स्वच्छ रखने और उच्चतम न्यायालय के दिए निर्देशों का अनुपालन करने का सन्देश बच्चों के माध्यम से समाज के बीच पहुंचाने की अपेक्षा की। डॉ0 हरिशंकर मिश्र ग्रुप ऑफ़ कॉलेजेज़ के सभी संकायों के शिक्षक/शिक्षिकाओं व विद्यार्थियों ने योग के गुर सीखे और जीवन में निरोगिता व स्वच्छता के प्रति स्वयं को वचनबद्ध किया। प्रधानाचार्य रवि नारायण मिश्र व मनोज सिंह ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह व शॉल प्रदान कर अभिनन्दन किया।
फेसबुक से टिप्पणी करें