देशबंधु गुप्त प्रसिद्ध राष्ट्र भक्त, स्वतंत्रता सेनानी और पत्रकार थे। अपने विद्यार्थी जीवन में ही देशबंधु गुप्त राष्ट्रीय आन्दोलन में कूद पड़े थे। उनसे प्रभावित होकर ही लाला लाजपत राय ने उन्हें अपने साथ ले लिया था। गुप्त जी में संगठन बनाने की बड़ी क्षमता थी। वर्ष 1942 में ‘भारत छोड़ो आन्दोलन’ के दौरान इन्हें गिरफ़्तार किया गया और फिर 1945 में ही ये जेल से बाहर आ सके।

एक पत्रकार के रूप में भी देशबंधु गुप्त जाने जाते थे। स्वामी श्रद्धानन्द ने इन्हें राष्ट्रीय पत्र ‘तेज’ का सम्पादक नियुक्त किया था। 1948 में ‘अखिल भारतीय समाचार पत्र सम्पादक सम्मेलन’ का अध्यक्ष भी उन्हें चुना गया था। गुप्त जी हमेशा ‘जाति प्रथा’ का विरोध करते रहे।

14 जुलाई 1900 को जन्मे देशबंधु गुप्ता को आज उनके जन्मदिन पर शत शत नमन।