पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में इमरान खान ने गाया कश्मीर राग, बोले-आप एक कदम बढ़ो, हम दो कदम बढ़ेंगे

0
69

जीत के बाद अपने पहले संबोधन में इमरान ख़ान ने कहा कि भारत की मीडिया ने उन्हें जिस रंग में रंगा उससे उन्हें लगा कि वो किसी फिल्म के विलेन हैं। उन्होंने आगे कहा कि उन्हें भारत के साथ बेहद अच्छे रिश्तों की उम्मीद है। कश्मीर राग अलापते हुए उन्होंने आगे कहा कि कश्मीर में हालात बेहतर करने के लिए पाकिस्तान पूरी तरह तैयार है और इस मामले में अगर भारत एक कदम आगे बढ़ाएगा तो पाक दो कदम आगे बढ़ाएगा। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच कश्मीर बड़ा विवाद है और इसे हल किया जाना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि उन्हें बातचीत से मसलों के हल होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच व्यापार और अच्छे रिश्ते हों तो बहुत अच्छा होगा।

पीएम हाउस में नहीं रहेंगे इमरान

पाकिस्तान की बुरी हालत पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि देश कर्ज में डूबा हुआ है और ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि हुक्मरानों ने देश का पैसा चोरी किया, अपने ऊपर ख़र्च किया और विदेशों में भेजा। उन्होंने देश के पैसे की हिफाजत का वादा किया। उन्होंने कहा कि देश की आधी आबादी गरीबी रेखा से नीचे है और इसकी वजह से वो पीएम हाउस में नहीं रहेंगे। उन्होंने यहां तक कहा कि वो गवर्नर हाउस तक को होटलों में बदल देंगे ताकि वहां से पैसा आए और लोगों की भलाई के लिए उसका इस्तेमाल किया जा सके।

भारत के आगे की विदेश नीति

भारत के आगे की विदेश नीति पर बोलते हुए उन्होंने चीन से रिश्ते मज़बूत करने की बात कही और कहा कि वो चीन समर्थित सीपेक का भरपूर फायदा उठाने की कोशिश करेंगे। उन्होंने गरीबी ख़त्म करने से लेकर भ्रष्टाचार ख़त्म करने तक के लिए चीन से सीख लेने की बात कही। उन्होंने अफगानिस्तान के साथ रिश्तों को बेहद अच्छा करने की बात करते हुए कहा कि इस पड़ोसी मुल्क से साथ ओपन बॉर्डर हो तो बहुत अच्छा होगा। इस पूर्व क्रिकेटर ने अमेरिका के साथ रिश्तों को बैलेंस में लाने की बात भी की। उन्होंने मिडिल ईस्ट में भी शांति लाने की बात की। साउदी अरब की तारीफ करते हुए इमरान ने कहा कि हर मुश्किल घड़ी में ये देश पाकिस्तान के साथ खड़ा रहा है।

जिन्ना के सपनों का दिया हवाला

उन्होंने आगे कहा कि वो राजनीति में इसलिए आए थे क्योंकि पाकिस्तान पहले तो ऊपर जा रहा था लेकिन देश की ख़राब राजनीति की वजह से देश नीचे चला गया। उन्होंने आगे कहा कि उनकी 22 सालों की मेहनत रंग लाई। उन्होंने कहा कि उनके पास क्रिकेट के करियर की वजह से पहले से वो सबकुछ था जो राजनीति उन्हें नहीं दे सकती, लेकिन वो कायदे आज़म (मोहम्मद अली जिन्नाह) के सपनों को पूरा करने के लिए राजनीति में आए।

चुनावी धांधली की जांच के लिए तैयार

चुनावी धांधली के आरोपों पर उन्होंने कहा कि अगर चुनावों में धांधली की जांच कराने की नौबत आई तो वो दुनिया के बाहर से भी लोगों को बुलाकर इसकी जांच कराएंगे। उन्होंने 2013 के चुनाव का ज़िक्र करते हुए कहा कि उस दौरान जब उन्होंने धांधली की बात उठाई थी तब किसी पार्टी ने उन्हें सपोर्ट नहीं किया था।

ईमानदारी से जगाएंगे भरोसा

उन्होंने भ्रष्टाचार विरोधी एजेंसियों को मज़बूत करने की बात कही और कहा कि इससे वो लोगों को टैक्स भरने के लिए प्रोत्साहित करने का काम करेंगे। उनके मुताबिक अगर लोगों को लगेगा कि देश का पैसा देश पर ख़र्च हो रहा है तो लोग ईमानदारी से टैक्स भरेंगे। देश में फैले भ्रष्टाचार को खत्म करने की बात करते हुए उन्होंने कहा कि आर्थिक मोर्चे पर देश की हालत इतिहास में सबसे ख़राब स्थिति में है।

युवाओं के लिए रोज़गार लाने का वादा

उन्होंने कहा कि सबसे पहले देश का माहौल ठीक करना है और व्यापार करने के लिए सही माहौल बनाना है। उन्होंने आगे कहा कि किसी तरह का निवेश इसलिए नहीं आता क्योंकि देश में बहुत भ्रष्टाचार है। उन्होंने ये भी कहा कि पाकिस्तान के पास दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी युवा आबादी है जिसे रोज़गार चाहिए और बिना निवेश के रोज़गार नहीं आएगा।

वोटरों को कहा शुक्रिया

इमरान ने कहा कि देश जिस तरह से वोट देने के लिए निकला वो उसकी दाद देना चाहते हैं क्योंकि वोटरों ने तमाम मुश्किलों के बावजूद देश की जम्हूरियत (लोकतंत्र) को मज़बूत किया है। इमरान ने चुनाव के दौरान जान गंवाने वालों से लेकर देश के सुरक्षा बलों से शहीद होने वालों तक को याद किया। उन्होंने कहा कि चुनावी रैली के दौरान हुए 10 हमले बड़ा ख़तरा थे। उन्होंने इन सबके बीच बलूचिस्तान का अलग से शुक्रिया अदा किया।

मुल्क को ऊपर उठाने का वादा

उन्होंने अपने सपनों के पाकिस्तान की बात करते हुए कहा कि उनकी सरकार की तमाम पॉलिसी कमज़ोर लोगों, मज़दूरों और किसानों के लिए होंगी। उन्होंने आगे कहा कि वो अपने मुल्क को एक इंसानीयत वाला मुल्क बनाने की कोशिश करेंगे। उन्होंने भुखमरी और गरीबी ख़त्म करने, साफ पानी मुहैया कराने से लेकर प्रेग्नेंट औरतों की जान बचाने और देश के लोगों को ऊपर उठाने का वादा किया। इमरान ने कहा कि कोई मुल्क देश के अमीरों के हाल से आगे नहीं बढ़ सकता, बल्कि मुल्क के ग़रीबों को ऊपर उठाकर ही देश को आगे बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने चीन का उदाहरण देते हुए कहा कि उससे सीख लेकर पाक के ग़रीबों को ऊपर उठाने की कोशिश की जा सकती है।

साथ आए पूरा देश, सबसे ऊपर होगा कानून

उन्होंने पूरे देश से एक साथ आने की बात की। उन्होंने उनपर हुए निजी हमलों को भूलने की बात कही और कहा कि जिन्होंने उनके ख़िलाफ वोट किया है वो उनके लिए भी काम करेंगे। वो राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ बदला लेने वाला रुख नहीं अपनाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि देश में किसी भी तरह का एक्शन कानून के तहत लिया जाएगा। उन्होंने इसका भी वादा किया कि देश में कानून सबसे ऊपर होगा।