50वें बैंक राष्ट्रीय करण दिवस पर बैंककर्मियों की आमसभा
यूपी बैंक इम्प्लाइज यूनियन के बैनर तले राष्ट्रीय करण को बचाने का लिया संकल्प
निजीकरण के ख़िलाफ़ लड़ेंगे आख़िरी दम तक

50वें बैंक राष्ट्रीयकरण दिवस पर आज गुरुवार को बैंक कर्मियों ने सिंडीकेट बैंक पर सभा कर राष्ट्रीयकरण की उपलब्धियों पर चर्चा की। बैंक राष्ट्रीयकरण को देश के सामाजिक आर्थिक परिवर्तन का माध्यम बता राष्ट्रीयकृत बैंकों के स्वरूप को बचाने के लिए संघर्ष का संकल्प लिया।

यूपी बैंक इम्प्लाइज यूनियन के बैनर के अन्तर्गत हुई इस सभा को संबोधित करते हुए जिला मंत्री आर के पाण्डेय ने कहा कि 19 जुलाई की तारीख गवाह है हमारे देश के सबसे बड़े सामाजिक और आर्थिक परिवर्तन की। यही वो दिन है जिस दिन भारत के सभी वर्ग के लोगों को बैंकिंग सेवा देने के लिए बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया और आज हम गर्व के साथ कह सकते हैं कि हमने उस उद्देश्य को पूरा किया है जिसके लिए ये राष्ट्रीयकरण किया गया।

उन्होंने कहा कि आइये आज के इस ऐतिहासिक दिन हम ये शपथ लेते हैं कि हम किसी भी परिस्थिति में बैंकों का निजीकरण नहीं होने देंगे।

बैंक राष्ट्रीयकरण दिवस के इस आयोजन में प्रमुख रूप से अजय मेहरोत्रा, वीर सिंह, अनुज सिंह, दीपक बाजपेई, अनादि ब्रम्ह मिश्रा, रचना, प्रदीप कुमार, आस्था, अनिल कुमार, प्रीती सिहं, कमल कांत, बरिदंर कौर, बालेशर, देवेन्द्र कुमार, पुष्कर गुप्ता, नसीम खान और आर के मिश्रा आदि मौजूद रहे।