हरदोई मेला 2018 का 05वां दिन : विराट कवि सम्मेलन में देर रात तक बही काव्य रस धार

0
62
यश भारती पुरस्कृत हास्य-व्यंग्य कवि डॉ0 सर्वेश अस्थाना रहे मुख्य आकर्षण
हरदोई मेला के पांचवें दिन गांधी भवन प्रांगण में विराट कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। कवि सम्मेलन में कवियों ने अपनी रचनाओं से ऐसा समा बांधा कि श्रोता देर रात तक कुर्सियों पर डटे रहे।
कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि विधायक सवायजपुर माधवेन्द्र प्रताप सिंह रानू व विशिष्ट अतिथि नगर पालिका अध्यक्ष सुख सागर मिश्र मधुर’, भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीकृष्ण शास्त्री व पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष उमेश अग्रवाल ने मां शारदा के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलित कर किया।
कार्यक्रम का शुभारंभ हाथरस से आई रूबिया खान की वाणी वंदना से हुआ। लखनऊ से आये ओज कवि योगेश चौहान ने ‘यदि पटेल भारत मां की छाती पर जिंदा होता, तो देशद्रोहियों के गर्दन में फांसी का फंदा होता।’ कविता पर तालियां बटोरी। गीतकार पवन कश्यप ने ‘हाथ मेरा छोड़ कर, बंधनों को तोड़कर, तुम उधर चली गई मैं इधर खड़ा रहा। रोशनी चली गई चराग बस पड़ा रहा’। गीत पढ़ समा बांधा । लखनऊ से पधारे यश भारती से सम्मानित कवि डॉ सर्वेश अस्थाना ने अपनी व्यंग्य रचना *किसी गिरगिट की नेता से तुलना करना महापाप है /क्योंकि रंग बदलने के मामले में नेता गिरगिट का बाप है।’ पढ़ श्रोताओं को गुदगुदाया।लखनऊ से पधारे गीतकार सौरभ पांडेय का गीत ‘ प्यार की चिंता में जले बहुत किये उपवास। तब रोटी दो जून की आई अपने पास।’ गीत पर वाहवाही लूटी।
कार्यक्रम संयोजक हास्य कवि अजीत शुक्ल ने अपनी हास्य रचनाओं से श्रोताओं को लोटपोट कर दिया। अजीत शुक्ल ने ‘मुद्दे कई ज्वलंत हो गए।राम विरोधी संत हो गए।। शुद्धीकरण हुआ भाजपा में, पापी सभी महंत हो गए।।’ कविता पढ़ श्रोताओं की तालियां बटोरी। रायबरेली से आए संचालक नीरज पांडेय ने ‘शासन व जनमानस में जब दूरी हो जाती है इंकलाब लिख ना तब मेरी मजबूरी हो जाती है।’ कविता पढ़ वाहवाही लूटी।हाथरस से पधारी कवयित्री रुबिया खान की कविता ‘पाक सुन ले बात आज राज की मेरी,भारती के सामने औकात क्या तेरी’ सराही गयी। लखनऊ से आये ओज कवि प्रख्यात मिश्र ने ‘हैं जितने आज हम कल भी रहेंगे उतने ही निर्भय, हमारे चीथड़े बोलेंगे माता भारती की जय’ कविता पढ़ माहौल को देशभक्तिमय कर दिया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे रायबरेली से आए हास्य कवि जमुना प्रसाद पांडे अबोध ने ‘मोदी जी तुम टाप कहि दिहो पत्ता सब के साफ कर दिहो’ कविता पर श्रोताओं को जमकर हंसाया।
कार्यक्रम में प्रमुख रुप से आयोजक रवि किशोर गुप्ता, अखिलेश गुप्ता, कुलदीप द्विवेदी, आशु गुप्ता, अवनीश गुप्ता, अरुणेश बाजपेई, अखिलेश बाजपेई, प्रीतेश दीक्षित, सत्यम तिवारी, राजवर्धन सिंह ‘राजू’ आदि उपस्थित रहे।