लच्छू महाराज भारत के जानेमाने तबला वादक थे। उन्होंने बनारस घराने की तबला बजाने की परम्परा को आगे बढ़ाया था। उनके कई शिष्य देश-विदेश में तबला बजा रहे हैं। लच्छू महाराज बेहद सादगी पसंद व्यक्ति थे, यही कारण था कि उन्होंने कभी कोई सम्मान ग्रहण नहीं किया। लच्छू महाराज का जन्म उत्तर प्रदेश की प्रसिद्ध नगरी बनारस में हुआ और वे वहीं पले-बढ़े। इनके पिता का नाम वासुदेव महाराज था। लच्छू महाराज बारह भाई-बहनों में चौथे थे। एक फ़्राँसीसी महिला टीना से लच्छू महाराज ने विवाह किया था। उनकी एक पुत्री है, जो स्विट्जरलैण्ड में है। पूरी दुनिया में अपनी पेशेवर प्रस्तुति के अलावा लच्छू जी ने कई बॉलीवुड फ़िल्मों के लिए भी तबला बजाया। लच्छू महाराज के वादन की विशेषता थी कि उनके पिता वासुदेव महाराज ने विभिन्न घरानों के तबला वादकों की देखभाल करते हुए उनके घरानों की शेष वंदिशों को संग्रहित कर लच्छू महाराज को प्रदान किया। लच्छू महाराज ने अपने विकट अभ्यास के ज़रिये स्वतंत्र तबला वादक एवं संगत दोनों में ख्याति प्राप्त की। वे गायन, वादन एवं नृत्य तीनों की संगत में निपुण थे।

1972 में ही केंद्र सरकार की ओर से उन्हें ‘पद्मश्री’ से सम्मानित करने का प्रस्ताव किया गया था, किंतु उन्‍होंने ‘पद्मश्री’ लेने से मना कर दि‍या। वे कहते थे- “श्रोताओं की वाह और तालि‍यों की गड़गड़ाहट ही कलाकार का पुरस्‍कार होता है।”

लच्छू महाराज का निधन 27 जुलाई, 2016 को हुआ था। उनका अंतिम संस्कार बनारस के मणिकर्णिका घाट पर किया गया। आज उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन।