निर्दोष छात्रों की मौत को लेकर विद्यार्थी परिषद ने पश्चिम बंगाल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का पुतला फूंका

0
18
पश्चिम बंगाल में शिक्षकों की कमी को लेकर प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर पुलिस द्वारा गोली चलाने के दौरान दो छात्रों की हुई मौत को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने रविवार को शाहाबाद बस स्टैंड पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का पुतला फूंका, विरोध जताया, साथ ही जोरदार नारेबाजी भी की। कहा गया कि पश्चिम बंगाल की सरकार छात्र हितों को लेकर कतई गंभीर नहीं है यदि होती तो प्रदर्शन कर रहे छात्रों के ऊपर गोलियां नहीं बरसाई जातीं। सरकार का यह रवैया बेहद निराश करने वाला है।
रविवार को बस स्टैंड पर अभाविप के कार्यकर्ताओं ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री का पुतला फूंक कर छात्रों पर गोली चलाए जाने का विरोध जताया साथ ही ममता सरकार के विरुद्ध नारेबाजी भी की। कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे शाहाबाद तहसील संयोजक आयुष मोहन शुक्ला ने कहा कि बंगाल सरकार ने विशेष संप्रदाय के वोट बैंक को हथियाने के चक्कर में प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर गोली चलवा दी। इसमें दो छात्रों की गोली लगने से मौत भी हो गई। सरकार का यह रवैया बेहद निराश करने वाला है। अब अपने हक की लड़ाई लड़ने वालों को गोली के दम पर चुप कराया जा रहा है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे हरदोई तहसील संयोजक राहुल देव ने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से लगातार चलाई जा रही तुष्टीकरण की नीति एवं पुलिस की ओर से ऐसा अमानवीय व्यवहार दुर्भाग्यपूर्ण है। अभाविप इसका कड़ा विरोध करती है। दोनों विद्यार्थियों को श्रद्धांजलि देते हुए इस पूरे घटनाक्रम के विरोध में जल्द से जल्द कड़ी कार्यवाही की मांग करती है।
कार्यक्रम का संचालन कर रहे दुर्गेश पांडे ने कहा जो कार्य पश्चिम बंगाल सरकार ने किया है वह कार्य बहुत ही निंदनीय है। इस मौके पर सह तहसील संयोजक उत्कर्ष गुप्ता, पारस गुप्ता, मनीष मिश्रा, इमरान वारसी, अभिषेक गुप्ता, विवेक सिंह, गोपाल गुप्ता, सीनू सरफराज, चित्रांश, शाहन, तरूश, ऋषभ, संदीप, मनीष मिश्रा, अभिषेक बाजपेई, शिवम, सुमित, रूद्र, आदिल, अमीर हसन, प्रथम गुप्ता, आलोक यादव आदि सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित रहे।