ओवैसी पाकिस्तान पर जमकर बरसे

0
30

पुलवामा में CRPF के काफिले पर हुए आतंकी हमले को लेकर AIMIM (ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लमीन) के नेता असदुद्दीन ओवैसी शनिवार को पाकिस्तान पर जमकर बरसे। आतंकवाद के मुद्दे पर उन्होंने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को शराफत का नकाब हटाने की नसीहत दी तो वहीं पुलवामा हमले की जिम्मेदारी लेने वाले जैश-ए-मोहम्मद को ‘जैश-ए-शैतान’ कहा। ओवैसी ने इस आतंकी संगठन के मुखिया मसूद अजहर को मौलाना नहीं बल्कि ‘शैतान का चेला’ बताया। ओवैसी ने कहा कि ये हमला पाकिस्तान सरकार, पाकिस्तानी आर्मी और ISI के इशारे पर किया गया था। बता दें कि इस हमले में सीआपीएफ के 40 जवानों की शहादत हुई थी।

– पाकिस्तान को हिदायत देते हुए ओवैसी ने कहा, ‘हमारे देश में कई मसलों पर राजनीतिक दलों में एकता नहीं है और सबके विचार अलग-अलग हैं, लेकिन जब देश की बात आती है तो हम सब एक हैं। उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान को भारत में रहने वाले मुसलमानों की चिंता करने की जरूरत नहीं है। 1947 में हमने जिन्ना को ठुकराते हुए पाकिस्तान की बजाए भारत को चुना था।’

– ओवैसी बोले,’पाकिस्तान के एक मंत्री ने भारत को धमकाते हुए कहा था कि वे जवाब देंगे तो भारत में मंदिरों में घंटियां बजना बंद हो जाएंगी। तो मैं उनसे कहना चाहता हूं कि जब तक इस देश के मुसलमान जिंदा हैं मस्जिदों से अजान और मंदिरों से घंटियों की आवाज बंद नहीं होगी। ये हमारे देश की खूबसूरती है, जिससे पड़ोसी देश बहुत जलता है। इस देश में सभी लोग मिलजुलकर रहते हैं और जब देश की बात आती है तो सभी एक हो जाते हैं।’

– ओवैसी ने कहा, ‘पुलवामा में हुआ आतंकी हमला पाकिस्तानी सरकार, आर्मी और ISI का प्लान था। हम पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से कहना चाहते हैं कि वो टीवी कैमरे के सामने बैठकर भारत को संदेश ना दें। आपने इसे शुरू किया है और यह पहला हमला नहीं है। पठानकोट और उरी के बाद अब पुलवामा में हमला हुआ है। मैं पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से कहना चाहता हूं, कि मासूमियत का ढोंग करना बंद करो।’

– जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ‘शैतान का चेला’ बताते हुए ओवैसी ने कहा, ‘हमारे 40 जवानों को मारकर उसकी जिम्मेदारी लेने वाले लोग जैश-ए-मोहम्मद नहीं जैश-ए-शैतान हैं। उन्होंने कहा कि मोहम्मद का सिपाही लोगों का कत्ल नहीं करता। वो इंसानियत के प्रति दयालु होता है।’ ओवैसी ने जैश-ए-मोहम्मद को जैश-ए-शैतान और जैश-ए-इब्लिस करार दिया।