पाकिस्तान सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान का जारी किया गया वीडियो हटा दिया है। जेनेवा समझौते और अन्य अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन करने के बाद पाकिस्तान को अपनी गलती का अहसास हुआ, जिसके बाद उसने यह कदम उठाया।

विंग कमांडर की रिहाई से पहले इस वीडियो को पाकिस्तान सरकार की सूचना प्रसारण मंत्रालय के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से जारी किया गया था। माना जा रहा है कि पाकिस्तान ने दुनिया को यह दिखाने की कोशिश की कि भारतीय पायलट उनके यहां से सकुशल लौट रहे हैं। लेकिन बाद में जब उसे अपनी गलती का एहसास हुआ तो इस वीडियो को हटा दिया गया।

पाकिस्तान सरकार ने स्थानीय समयानुसार रात साढ़े आठ बजे अभिनंदन का वीडियो संदेश स्थानीय मीडिया में जारी किया। इस वीडियो में अभिनंदन बता रहे हैं कि उन्हें किस तरह पकड़ा गया और पाकिस्तानी सेना ने उनके साथ किस तरह व्यवहार किया। वीडियो में अभिनंदन कहते नजर आ रहे हैं कि वह ‘निशाना खोजने के लिए’ पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र में घुसे लेकिन उनके विमान को मार गिराया गया।

सूत्रों के मुताबिक वर्धमान को भारत के हवाले करने में पाकिस्तान की ओर से देरी इसीलिए हुई क्योंकि पाकिस्तानी अधिकारी उनसे कैमरे पर बयान दर्ज करवा रहे थे। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि उन्हें दबाव में कैमरे के सामने बयान देने को कहा गया या नहीं। लेकिन इस वीडियो में दो दर्जन ऐसे कट हैं जो यह संकेत दे रहे हैं कि इसे परोक्ष रूप से पाकिस्तानी रुख के अनुरूप करने के लिए इसमें बहुत काट-छांट की गई।