यूपी बैंक इम्प्लाइज़ यूनियन हरदोई इकाई की त्रिवार्षिक आमसभा, आर के पांडेय 10वीं बार चुने गए ज़िला मंत्री

0
5

बैंकिंग उद्योग डूबे कर्जो की वज़ह से गहरे संकट में है। बाज़ार में मंदी है और अर्थव्यवस्था बेहाल है। सरकार उन कार्पोरेट घरानों के नाम सार्वजनिक करे जो जानबूझकर बैंक कर्ज़ अदा नहीं कर रहे हैं। उक्त विचार यूपी बैंक इम्प्लाइज यूनियन की जिला इकाई की त्रिवार्षिक आम सभा में जिला मंत्री आर के पाण्डेय ने व्यक्त किये।

हरदोई शहर के सरकुलर रोड स्थित एक निजी होटल के सभागार में बैंक यूनियन की सम्पन्न हुई त्रिवार्षिक आमसभा में आर के पाण्डेय लगातार दसवीं बार आगामी त्रिवार्षिक सत्र के लिए निर्विरोध जिला मंत्री चुने गए।

चुनाव प्रक्रिया का संचालन पूर्व बैंककर्मी नेता आर सी बाजपेई की देखरेख में सम्पन्न हुई। निर्विरोध निर्वाचन में आगामी तीन वर्षों के लिए बैंक ऑफ इंडिया के वेद प्रकाश पांडे को अध्यक्ष, जिला सहकारी बैंक के सुनील अवस्थी, ग्रामीण बैंक ऑफ आर्यावर्त के एस के गुप्ता व सेंट्रल बैंक की वर्षा मेहरोत्रा को उपाध्यक्ष चुना गया। पंजाब नेशनल बैंक के अजय मेहरोत्रा संयुक्त मंत्री व केनरा बैंक के अनुज सिंह संगठन मंत्री चुने गए। बैंक ऑफ इंडिया के वीर बहादुर सिंह व नसीम खान, सिंडीकेट बैंक के दीपक बाजपेई, बैंक ऑफ बड़ौदा के हिमांशु श्रीवास्तव व यूनाइटेड बैंक के श्याम मोहन बाजपेई सहायक मंत्री चुना गया। जिला सहकारी बैंक के दीपक शुक्ला कोषाध्यक्ष व यूनियन बैंक के कौशलेंद्र शुक्ला आडीटर चुने गए।

त्रिवार्षिक आमसभा में जिला मंत्री आर के पाण्डेय ने अपने प्रतिवेदन में अंतराष्ट्रीय, राष्ट्रीय, आर्थिक और बैकिंग परिदृश्य पर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि बैंक कर्मियों का वेतन पुनरीक्षण अब और टाला नहीं जा सकता। भारतीय बैंक संघ और वित्त मंत्रालय बैंक यूनियनों के साथ वार्ता में अवरोध को दूर करे और एक सम्मानजनक वेतनवृद्धि समझौता हो ताकि बैंककर्मी बेफिक्र होकर देश के आर्थिक विकास में अपना योगदान दे सकें। बैंक यूनियन की प्रगति आख्या के अलावा यूनियन के आय व्यय लेखा जोखा को भी आमसभा में पारित किया गया।