अभिनंदन की रिहाई पर पाक बोलता रहा झूठ पर झूठ!

0
20

भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन करीब 56 घंटे बाद वतन वापस लौट आए हैं। पाकिस्तान सुबह से उनकी रिहाई का आश्वासन देता रहा, लेकिन उसने रात नौ बजे के बाद उनको भारत को सौंपा। यह पहला मौका नहीं था, जब पाकिस्तान लगातार झूठ बोल रहा था। इससे पहले भी वो अपने झूठ को लेकर दुनिया के सामने बेनकाब हो चुका है।

भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई को लेकर पाकिस्तान अपनी नापाक चाल चल रहा है। उसने विंग कमांडर अभिनंदन को छोड़ने में बिना वजह देरी की। पहले पाकिस्तान ने सुबह 10 बजे तक अभिनंदन को भारत के हवाले करने की बात कही, लेकिन अपनी बात पर खरा नहीं उतरा। इसके बाद उसने दोपहर दो बजे का समय दिया, लेकिन इस बार भी उसने अभिनंदन को भारत को नहीं सौंपा। फिर उसने बीटिंग द रिट्रीट के बाद विंग कमांडर अभिनंदन को सौंपने की बात कही, लेकिन इस बार भी उसने अपनी नापाक चाल चली। भारत ने अभिनंदन की वापसी के मद्देनजर बीटिंग द रिट्रीट को भी रद्द कर दिया। इसके बाद पाकिस्तान रात नौ बजे के बाद अभिनंदन को वाघा से 8 किमी पहले बाटापुर सैन्य कैंप में रोक लिया था। वहीं, पूरा हिंदुस्तान पायलट अभिनंदन की वतन वापसी का बेसब्री से इंतजार कर रहा था। वाघा बॉर्डर पर विंग कमांडर अभिनंदन के स्वागत के लिए काफी संख्या में लोग जमा रहे। उधर, भारतीय वायुसेना के अधिकारी विंग कमांडर अभिनंदन को रिसीव करने वाघा बॉर्डर पहुंचे। पाकिस्तान का रिकॉर्ड बेहद खराब रहा है। उसने कभी भी अपना वादा नहीं पूरा किया है। वह हर मसले पर हमेशा से ही झूठ बोलता रहा है। इससे पहले पाकिस्तान ने विंग कमांडर अभिनंदन समेत दो भारतीय पायलटों को पकड़ने और दो भारतीय लड़ाकू विमानों को मार गिराने का झूठा दावा किया था। हालांकि बाद में उसने अपने बयान से यूटर्न लिया और कहा कि उसके कब्जे में सिर्फ एक ही भारतीय पायलट है।

इसके बाद पाकिस्तान ने विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई को लेकर सौदेबाजी करने की कोशिश की, लेकिन भारत राजी नहीं हुआ और आखिर में उसको अभिनंदन को रिहा करने का फैसला लेना पड़ा। गुरुवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि शुक्रवार को भारतीय पायलट अभिनंदन को छोड़ दिया जाएगा। उन्होंने यह भी दावा किया कि वो शांति पहल के तहत यह कदम उठा रहे हैं। इमरान खान के ऐलान के बाद भारत ने पाकिस्तान से कहा कि वो विंग कमांडर अभिनंदन को हवाई मार्ग से भारत पहुंचाए, तो उसने मना कर दिया। इसके बाद पाकिस्तान ने विंग कमांडर अभिनंदन को वाघा बॉर्डर से भारत पहुंचाने की बात कही।