हरदोई : सौरभ की झंडाबरदारी में भाजपा का पहला शो रहा मेगा
प्रदेश उपाध्यक्ष बोले- कार्यकर्ताओं व जनता का मिला जुला उछाह देख विपक्ष को हो जाना चाहिए 2019 की तस्वीर का अंदाज़ा
बृजेश ‘कबीर’
____________________________________________
भारतीय जनता पार्टी के स्थानीय नेतृत्व में बदलाव के बाद कमल सन्देश बाइक रैली नए जिलाध्यक्ष सौरभ मिश्र ‘नीरज’ के लिए बड़ी चुनौती थी। इसी महीने की पहली तारीख़ को सौरभ को जिले में संगठन की कमान मिली थी और तैयारी के लिए उनके पास वक़्त कम था। लेकिन, आज सीएसएन कॉलेज मैदान में जो नजारा दिखा उसने सौरभ के चेहरे पर नूर बरसा दिया। हालांकि, रैली में जुटी हजारों की भीड़ जुटाने में सदर लोकसभा क्षेत्र की 05 विधानसभा क्षेत्रों के विधायकों की मेहनत का नतीजा था। वहीं, कहना ये भी ग़लत नहीं होगा कि नए जिलाध्यक्ष ने विधायकों से जिस कुशलता से समन्वय बनाया, उसके चलते ही विधायक रैली की सफलता में मन से जुटे।
रैली के लिए 10 बजे का समय तय था। लेकिन, 11 बजे तक सीएसएन कॉलेज मैदान की तस्वीर देख रैली की सफलता एक बारगी संदिग्ध लगी। फिर, उसके बाद जो बाइकों पर सवार भाजपा कार्यकर्ताओं के आने का सिलसिला शुरू हुआ वह रैली रवाना होने तक नहीं थमा। 01 बजते बजते मैदान का पीछे का हिस्सा बाइकों और कार्यकर्ताओं से अट गया। हजारों की तादाद में बाइकों और कार्यकर्ताओं की मौजूदगी देख मुख्य अतिथि प्रदेश उपाध्यक्ष/अवध क्षेत्र प्रभारी जयेन्द्र प्रताप सिंह राठौर गदगद् हो गए। उन्होंने मंच से कार्यकर्ताओं को सन्देश दिया कि शहर में पूरी शालीनता से रैली निकालनी है। तय रूट का कोई कार्यकर्ता उल्लंघन नहीं करेगा। बाइकों की गति बेहद कम रखी जाएगी।
इसके बाद जेपीएस ने जिला प्रभारी/किसान मोर्चा के प्रदेश महामन्त्री सुधीर सिंह ‘सिद्धू’, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य अखिलेश पाठक, जिलाध्यक्ष सौरभ मिश्र ‘नीरज’, निवर्तमान जिलाध्यक्ष श्री कृष्ण शास्त्री, पूर्व जिलाध्यक्ष राजीव रंजन मिश्रा, रैली जिला संयोजक/जिला उपाध्यक्ष अजीत सिंह ‘बब्बन’, जिला उपाध्यक्ष आज़ाद भदौरिया, जिला महामन्त्री रामचन्द्र राजपूत व राजेश अग्निहोत्री, जिला कोषाध्यक्ष डॉ0 अनुज गुप्ता, पूर्व राज्यमन्त्री (स्वतन्त्र प्रभार/सदर विधायक नितिन अग्रवाल, सवायजपुर विधायक माधवेन्द्र प्रताप सिंह ‘रानू’, शाहाबाद विधायक रजनी तिवारी, गोपामऊ विधायक श्याम प्रकाश, साण्डी विधायक प्रभाष कुमार, पूर्व विधायक अनिल वर्मा, एससी/एसटी आयोग के पूर्व सदस्य पीके वर्मा, पालिकाध्यक्ष सुख सागर मिश्र ‘मधुर’, पूर्व पालिकाध्यक्ष उमेश अग्रवाल, बावन ब्लॉक प्रमुख समीर सिंह, जिला कार्यसमिति सदस्य राजाबक्स सिंह व पारुल दीक्षित, जिला मीडिया सम्पर्क प्रमुख प्रीतेश दीक्षित, मीडिया प्रभारी गांगेश पाठक, प्रचार मन्त्री सन्दीप अवस्थी, कार्यालय मन्त्री गौरव भदौरिया, नगर अध्यक्ष अजीत उपाध्याय, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष आकाश सिंह, निवर्तमान मोर्चा जिलाध्यक्ष ठाकुर सन्दीप सिंह, रवि प्रकाश, पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कुलभूषण सिंह, सौरभ सिंह गौर, क्रय विक्रय समिति सभापति प्रद्युम्न सिंह और सहकारी शीतगृह सभापति अमित दीक्षित आदि की मौजूदगी में रैली को पार्टी ध्वज दिखा रवाना किया। ये सभी खुद भी बाइकों पर सवार हो रैली में शामिल हुए।
रैली सर्कुलर रोड, घर होटल चौराहा, रेलवेगंज पुलिस चौकी चौराहा, जिन्दपीर चौराहा, जेल रोड, डीएम बंगला चौराहा, नुमाइश चौराहा, बावन चुंगी, साण्डी चुंगी, बिलग्राम चुंगी, बड़ा चौराहा, सिनेमा चौराहा, सोल्जर बोर्ड चौराहा, घण्टाघर रोड व नुमाइश चौराहा होते हुए गांधी मैदान में समाप्त हुई। इस बीच साण्डी रोड पर महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष अलका गुप्ता ने पार्टी नेताओं को रोली का टीका किया। भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष पीके वर्मा ने वापसी में नुमाइश चौराहा पर रैली, जेपीएस और सौरभ पर पुष्प वर्षा की। गांधी भवन में जेपीएस ने भारत माता और महात्मा गांधी की प्रतिमाओं पर माल्यार्पण किया।
मुख्य अतिथि जेपीएस ने गांधी भवन में भी कार्यकर्ताओं को सम्बोधित किया। रैली में उत्साह से प्रतिभाग करने पर आभार जताया और आज का सन्देश लोगों के बीच ले जाने का आवाह्न किया। जिलाध्यक्ष सौरभ ने कार्यकर्ताओं से कहा, उनके काम, उनकी समस्याएं और उनकी पीड़ा सब उनके हिस्से कर दें। सबके काम होंगे, सबकी समस्याएं ख़त्म होंगी और सबकी पीड़ा हरी जाएगी। उन्होंने रैली की सफलता का श्रेय कार्यकर्ताओं को देते हुए आभार जताया। पत्रकारों से बातचीत में जेपीएस ने कहा, कमल सन्देश यात्रा का मकसद विपक्ष की आंखें खोलना था। जो यह कहते घूम रहे हैं कि मोदी से जनता का मोह भंग हो गया है, आज उन्हें भान हो गया होगा कि मोदी के कामों से जनता संतुष्ट है।
जेपीएस ने कहा, जो लोग नोटबंदी के दर्द से बिलबिला रहे हैं वह इसलिए कि उनका दो नम्बर का धन बिस्तरों-तकियों से निकल कर बैंकों में पहुंच गया और उस धन से केन्द्र सरकार ने जनकल्याण के ढेरों काम किए। विश्व हिन्दू परिषद के 25 के अयोध्या कूच पर जेपीएस प्रदेश अध्यक्ष के उलट थोड़ा खुल के बोले। कहा, अयोध्या भगवान राम की जन्मस्थली है और वहां हर हाल में भव्य राम मन्दिर बनेगा। कब बनेगा ? इसके जवाब में बोले कि मन्दिर पहले से है, उसे भव्य स्वरूप देना है। क्यों नहीं बन रहा ? इस पर कहा कि सब जानते हैं कि कौन बनने नहीं दे रहा ? कौन नहीं बनने दे रहा ? इसके जवाब में सीधे कांग्रेस का नाम लिया। विहिप की 25 की धर्म संसद में शामिल होने की भाजपा अपने कार्यकर्ताओं से औपचारिक अपील करेगी ? इस पर कहा राम हिन्दुओं के मन-प्राण में बसते हैं और उनके काज के लिए किसी को कहना नहीं होता। जो भी कार्यकर्ता जाना चाहेगा, जाएगा।
***
…और जेपीएस ने विक्ट्री का साइन बना जताया, शो रहा सुपर-डुपर
मुख्य अतिथि जेपीएस राठौर सिर पर केसरिया गमछा लपेटे और हाथ में भाजपा का झण्डा थामे पार्टी जिलाध्यक्ष सौरभ मिश्रा की बाइक पर सवार थे। नुमाइश चौराहा पर जब कैमरे की क्लिक हुई तो उन्होंने झट से उंगलियों से विक्ट्री का साइन बना दिया। कहा भी, रैली जबरदस्त सफल रही। शो हिट गया।
जैसे श्याम प्रकाश अलहदा, वैसे उनके अंदाज़ भी
विधायक श्याम प्रकाश अपने बिन्दास और बेलौस बयानों से सुर्ख़ियों में रहते ही है। लेकिन उनका अंदाज़ भी अलहदा है। कमल सन्देश बाइक रैली में वैसे तो हजारों बाइकें थीं, लेकिन महफ़िल लूट ले गए गोपामऊ विधायक श्याम प्रकाश। चौपहिया बाइक पर पौत्र के साथ सवार श्याम प्रकाश ने अजब कौतूहल पैदा कर दिया। हर निगाह उनकी चौपहिया बाइक पर ठिठकती रही। रैली के रास्तों में भी वही ‘बारात के दूल्हे’ से दिखे।
रजनी के आवास पहुंचे जेपीएस
रैली में पहुंचने से पहले जेपीएस राठौर शाहाबाद विधायक रजनी तिवारी के आवास पहुंचे। वहां उन्होंने स्वल्पाहार लिया। जेपीएस को सौरभ खेतुई बाला जी मन्दिर से रिसीव कर के लाए थे। विधायक आवास पर टोडरपुर ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि श्यामू अग्निहोत्री, पूर्व उपाध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद मिश्रा, उधरनपुर प्रधान त्रिपुरेश मिश्रा, प्रधान मनोज मिश्रा, विधायक प्रतिनिधि अरुणेश मिश्रा, नारायण सिंह डिग्री कॉलेज ककरघटा के प्रबन्धक रंजीत सिंह, ईशान तिवारी आदि ने जेपीएस का स्वागत किया।
***
पहलू एक यह भी
भाजपा की बाइक रैली से यातायात प्रभावित हुए बिना नहीं रह सका। रैली के निकलने के समय ही स्कूलों में छुट्टी का वक़्त था। सर्कुलर रोड से लेकर रैली के पूरे रूट में तमाम जगह स्कूल बसें फंसी रहीं। गनीमत है, मौसम गुलाबी है तो बच्चे बिलबिलाए नहीं। लेकिन, घरों को तय वक़्त से देरी से पहुंचे।