इनरव्हील क्लब की इंस्टालेशन सेरेमनी : नेहा नारायण बनीं प्रेसिडेंट और पूजा जैन को मिली सेक्रेटरी शिप

0
4

पूर्व प्रेसिडेंट अनुराधा मिश्रा का हुआ प्रमोशन, बनीं बरेली ज़ोन की ज़ोनल प्रोजेक्ट कोऑर्डिनेटर, देखेंगी 31 ज़िले

बोलीं मुख्य अतिथि साधना रस्तोगी, हरदोई इनरव्हील क्लब स्थापित कर रहा नए प्रतिमान

इनरव्हील क्लब हरदोई (डी.ओ.डी.) में वर्ष 2019-20 के लिए नेहा नारायण को प्रेसिडेंट और पूजा जैन को सेक्रेटरी चुना गया है। साथ ही शिवानी वर्मा व हरप्रीत कौर को वाईस प्रेसिडेंट, सुप्रिया सेठ को आईएसओ, राखी द्विवेदी को ट्रेजरार, इंदु शुक्ला को एडिटर बनाया गया।

बीते कल होटल एच के एंड लॉन में आयोजित कार्यक्रम में पूर्व प्रेसिडेंट अनुराधा मिश्रा व चार्टर प्रेसिडेंट चित्रा बाजपेई की उपस्थिति में डिस्ट्रिक्ट चेयर पर्सन साधना रस्तोगी ने नेहा नारायण को कॉलर धारण कराया। सभी सदस्यों को प्रतीक चिन्हों से अलंकृत किया गया।

हरदोई इनरव्हील क्लब से पूर्व प्रेसिडेंट अनुराधा मिश्रा को प्रमोट करके बरेली ज़ोन का ज़ोन प्रोजेक्ट कोऑर्डिनेटर बनाया गया है। ये पहली बार हुआ है कि किसी पदाधिकारी को प्रमोशन मिला हो। उनके अंडर में हरदोई सहित 31 ज़िले होंगे, जिनकी सालाना प्रोजेक्ट रिपोर्ट वे चेयरपर्सन साधना रस्तोगी को सौपेंगी।

मुख्य अतिथि साधना रस्तोगी ने अपने सम्बोधन में हरदोई क्लब के काम काज की जम कर तारीफ की और अधिक सेवा भाव से काम करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने हरदोई क्लब के कई कार्यों जैसे पौधारोपण, गरीबों के लिए किए गए कार्यों, बाढ़ पीड़ितों के सहायतार्थ कार्यों, जल संरक्षण पर किए गए कार्यों को अनुकरणीय बताया और कहा कि हर जगह कुछ न कुछ नया सीखने को मिलता रहता है। उन्होंने हरदोई क्लब विज़िट को यादगार बताया।

क्लब प्रेसिडेंट नेहा नारायण ने अधिक से अधिक सामाजिक व शैक्षणिक कार्यक्रमों को नवीन सत्र में करने पर ज़ोर दिया। उन्होंने 4 साल के एक बच्चे को क्लब की तरफ से गोद लेते हुए उसकी शिक्षा दीक्षा के प्रबंधन की ज़िम्मेदारी लेते हुए उसे पाठ्य पुस्तकें प्रदान कीं। इस अवसर पर मौजूद जेलर मृत्युंजय पांडेय, पूर्व डीजीसी अविनाश चन्द्र गुप्ता, प्रमोद बाजपेई, अम्बरीष नारायण, आमिर किरमानी व अन्य अतिथियों को तुलसी के पौधे भेंट देकर पर्यावरण जागरूकता का संदेश दिया गया। स्वागत भाषण आईपीपी व ज़ेडपीसी (इमीडियेट पास्ट प्रेसिडेंट व ज़ोनल प्रोजेक्ट कोऑर्डिनेटर) अनुराधा मिश्रा ने दिया व संचालन इंदु शुक्ला ने किया।