जिलाधिकारी पुलकित खरे ने संत विनोबा के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की
सर्वोदय आश्रम की अध्यक्ष उर्मिला श्रीवास्तव ने संत विनोबा के व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डाला
महात्मा गांधी के आध्यात्मिक उत्तराधिकारी और सत्ता के बजाय सेवा मार्ग को अपनाने वाले संत विनोबा भावे की 123वीं जयंती पर मंगलवार की शाम शहर के गांधी भवन के प्रार्थना कक्ष में आयोजित कार्यक्रम में जिलाधिकारी पुलकित खरे ने पहुँच कर अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किए।
कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलन एवम बच्चों द्वारा, बिनोबा की आवाज पहुँचा दो घर घर, गीत प्रस्तुत कर की गयी। सर्वोदय आश्रम की अध्यक्ष उर्मिला श्रीवास्तव ने संत विनोबा के पवनार आश्रम में जाने और उनके जुड़े संस्मरण सुनाते हुए उनके भूदान आंदोलन और आध्यत्मिक संदर्भो, विशेष कर गीता की सरल व्याख्या पर चर्चा की।
अन्य प्रमुख वक्ताओं में अखिलेश बाजपेयी, आर डी श्रीवास्तव, महामहिमा श्रीवास्तव, राकेश पाण्डेय, अविनाश चन्द्र गुप्ता “अब्बी बाबू”, डॉ एस एन अग्निहोत्री, हरिबंश सिंह, धर्मेंद्र सिंह, प्रोफेसर एस के सिंह, रविकांत त्रिपाठी ने संत विनोबा के जीवन पर प्रकाश डाला।
कार्यक्रम में प्रमुख रूप से सीमा मिश्रा, नीलम मिश्रा, सरिता अग्रवाल, सुधा वाचस्पति, अरुणेश बाजपेयी, भरत पाण्डेय, जोगिंदर सिंह गांधी, फखरुल इस्लाम, आलोक श्रीवास्तव, मनीष मिश्रा, अमित त्रिवेदी रानू, वाय पी गुप्ता, हरिमोहन श्रीवास्तव, सुधीर अवस्थी, वसीम अहमद सिददीकी, बाबू अली, आर डी श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे। संचालन विजय मिश्र औऱ आभार प्रदर्शन उर्मिला श्रीवास्तव ने किया।