श्यामप्रकाश ने भाजपा की महत्व वाली रात्रि चौपाल का किया बायकॉट

0
85

विधायक ने माफ़िया डॉन से मिली धमकी के चलते रात में क्षेत्र भ्रमण को बताया जोखिम भरा

गोपामऊ के पार्टी विधायक के रुख़ पर जिलाध्यक्ष श्री कृष्ण शास्त्री की आध्यात्मिक प्रतिक्रिया

गोपामऊ से भाजपा विधायक श्याम प्रकाश फिर चर्चा में हैं। उन्होंने ग्राम स्वराज अभियान के तहत पार्टी के महत्व वाले कार्यक्रम रात्रि चौपाल में जाने से हाथ खींच लिए हैं। उनका कहना है कि कुख्यात माफिया डॉन से मिली जान-माल की धमकी के चलते रात में क्षेत्र भ्रमण जोखिम भरा हो सकता है।भाजपा जिला उपाध्यक्ष और रात्रि चौपाल कार्यक्रम के प्रभारी आज़ाद भदौरिया को चिट्ठी लिख विधायक ने अपनी मंशा को जिला नेतृत्व को बढ़ाने को कहा है। श्याम प्रकाश ने लिखा है कि माफ़िया डॉन द्वारा व्हाट्स एप्प मैसेज कर उनसे रंगदारी मांगे जाने और विपरीत स्थिति में परिवार की हत्या की धमकी देने की बात सर्व विदित है। शासन और स्थानीय प्रशासन द्वारा उन्हें अभी तक पर्याप्त सुरक्षा नहीं देने से रात में क्षेत्र भ्रमण बेहद जोखिम वाला हो सकता है। असुरक्षा के वातावरण में वह रात्रि चौपालों में जाने में असमर्थ हैं और उनकी मंशा से पार्टी के जिला नेतृत्व को अवगत करा दिया जाए।

वहीं, विधायक प्रतिनिधि धर्मेश कुमार मिश्र ने जारी एक वक्तव्य में सुरक्षा कारण से रात्रि चौपालों में विधायक के नहीं जाने की बात कही है। अलबत्ता, 15 अगस्त से 15 दिसम्बर तक जन-यात्रा के तहत बूथों पर होने वाली चौपालों में विधायक के रहने की बात कही है। धर्मेश के अनुसार, विधायक बूथों पर चौपाल लगा सरकार की योजनाओं का प्रचार प्रसार करेंगे। साथ ही जनता और पार्टी कार्यकर्ताओं की समस्याएं सुन निराकरण करेंगे। जन-यात्रा के तहत चौपालें सर्व समाज के गांवों में आयोजित कराई जाएंगी।

गोपामऊ के पार्टी विधायक के रुख़ पर जिलाध्यक्ष श्री कृष्ण शास्त्री ने अंतर्ध्वनि एन इनर वॉइस को आध्यात्मिक लहजे में प्रतिक्रिया दी। कहा, हिन्दू जीवन पद्धति में मृत्यु एक पड़ाव है और आत्मा की यात्रा चिरन्तन। शरीर का आना-जाना विधि का विधान है। हमारे क्रान्तिकारियों ने फांसी के तख़्ते पर जाते-जाते कहा कि भारत मां की सेवा के लिए एक जन्म और आएंगे। इसलिए, इस सबसे बहुत प्रभावित नहीं होना चाहिए। मृत्यु-भय का सामना अन्तर्मन से होता है। बाह्य सुरक्षा व्यवस्था की बहुत भूमिका नहीं होती है।