सृजन फाउंडेशन का 13वां स्थापना दिवस उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी, लखनऊ में आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि के तौर पर उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष सुनीता बंसल रहीं। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथियों के तौर पर पवन सिंह चौहान चेयरमैन- एस.आर.ग्रुप ऑफ़ इंस्टिट्यूट, डॉ. श्वेता सिंह प्रांतीय उपाध्यक्ष- भाजपा उत्तर प्रदेश, योगेश त्रिपाठी प्रतिनिधि रामदास अठावले सामाजिक न्याय एवं सहकारिता राज्य मंत्री भारत सरकार, सुशील तिवारी पम्मी पार्षद लाल कुआँ  व अधिवक्ता राम प्रकाश मौजूद रहे।
इस मौके पर डॉ रवीश श्रीवास्तव के उपन्यास ‘उसे आना ही था’ का विमोचन किया गया। सामाजिक रीति रिवाज़ के महत्त्व और अमीरी गरीबी, जात पात के भेदभाव पर आधारित पुनर्जन्म की एक काल्पनिक प्रेम कहानी है ‘उसे आना ही था’। यह उपन्यास भावनाओं की धार में बहता है और समाज को आइना भी दिखाता है। इस उपन्यास पर आधारित लखनऊ के कलाकारों को लेकर हिंदी फीचर फिल्म कालांतर की शूटिंग भी जल्द शुरू हो रही है। जिसके निर्देशक डॉ. रवीश श्रीवास्तव, एसोसिएट डायरेक्टर दीपक गौतम और कैमरा पर चित्रांश कृष्णा हैं। इस फिल्म में सृजन परिवार के कई सदस्य भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।
मुंबई से आये उत्कर्ष ने ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ की परंपरा को निभाते हुए ढेरों शानदार प्रस्तुतियां दीं। उत्कर्ष लखनऊ के ही रहने वाले हैं।देश के अलावा विदेशों में भी उत्कर्ष ने अपनी गायिकी से लखनऊ और देश को गौरवान्वित किया है। इसी माह उत्कर्ष का म्यूजिक एल्बम ‘थ्रेसहोल्ड’ अंतर राष्ट्रीय स्तर पर स्विट्ज़रलैंड से रिलीज़ हो रहा है। जिसके सभी 9 गानों को उत्कर्ष ने आवाज़ दी है। इसमें 8 राष्ट्रों के 9 संगीतकारों ने म्यूजिक दिया है।
इस अवसर पर सृजन फाउंडेशन के दो नए अभियान “बच्चों का निशुल्क शिक्षा अभियान ‘बुनियाद’ एवं “सृजन कपडा बैंक” की शुरुआत की गयी। सृजन कपडा बैंक- ‘कल्ट द कल्चरल सोसाइटी’ के सहयोग से संचालित होगा जिसमें लोगों के घरों से कपडे लेकर ज़रूरतमंदों को पहुँचाया जाया करेंगे। इसका कोऑर्डिनेटर मोहित श्रीवास्तव को बनाया गया। बुनियाद के तहत बच्चों को स्कूल के बाद निशुल्क शिक्षा देने के लिए अभियान बुनियाद कार्य करेगा ताकि देश की बुनियाद बच्चो को मजबूत किया जा सके। इसका कोऑर्डिनेटर श्रीमती जैन को बनाया गया। बुनियाद का ब्रांड अम्बेसडर अरुणा शर्मा को बनाया गया।
इस अवसर पर हुए सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बच्चों ने रोचक प्रस्तुतियां दीं। वागीशा पंथ, दीया राय चौधरी, यथार्थ पांडे, आदिति जयसवाल, रूबल जैन, प्रभव सक्सेना, सौम्या सिंह, समृद्धि सक्सेना, स्तुति जैन, येशु वर्मा, चेतना तिवारी, दिनेश श्रीवास्तव, साक्षी दुबे, दीपांशी दुबे, सौम्या सिंह, अंशिका त्यागी, ऐश्वर्या जायसवाल ने पुराने गानों पर रोचक प्रस्तुतियां दीं।
नाइन सेनेटरी पैड्स, एस आर ग्रुप ऑफ़ इंस्टिट्यूट, कल्ट द कल्चरल सोसाइटी के सहयोग से यह कार्यक्रम कराया गया। कार्यक्रम का संचालन राखी अग्रवाल ने किया।
फेसबुक से टिप्पणी करें