क्रिकेट विश्व कप 2003 : तीसरी बार विश्व कप जीत ऑस्ट्रेलिया ने ख़ुद को साबित किया बादशाह

0
17

आठवां क्रिकेट विश्व कप (आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2003): वर्ष 2003 के क्रिकेट विश्व कप (Cricket World Cup 2003) का आयोजन अफ्रीका महाद्वीप (दक्षिण अफ्रीका, केन्या और जिम्‍बाब्‍वे) द्वारा किया गया। किसी प्रायोजक के नहीं होने की वजह से इसका नाम आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2003 रखा गया था। पहली बार विश्व कप में 14 टीमों ने हिस्सा लिया था। एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाली 11 टीमों के अलावा आईसीसी ट्राफी की क्वालीफाइंग तीन टीमों – कनाडा, नामीबिया और नीदरलैंड्स ने भी क्रिकेट विश्व कप 2003 में हिस्सा लिया था।

सात-सात टीमों को दो ग्रुपों में बाँटा गया था। हर ग्रुप से शीर्ष तीन टीमों को सुपर सिक्स में जगह मिली और फिर चार टीमें सेमीफाइनल में पहुंची थीं। ग्रुप मैचों में ग्रुप ए से जिम्‍बाब्‍वे और ग्रुप बी से केन्‍या का सुपर सिक्स में पहुंचना क्रिकेट विश्व कप 2003 (Cricket World Cup 2003) की सबसे बड़ी घटना थी। जबकि इंग्लैंड, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज सुपर सिक्‍स में जगह नहीं बना सकी थीं।

ग्रुप ए से भारत, ऑस्ट्रेलिया और जिम्‍बाब्‍वे की टीम सुपर सिक्स में पहुंची थी, जबकि ग्रुप बी से श्रीलंका, केन्‍या और न्यूजीलैंड की टीम सुपर सिक्स में जगह बनाई थी। भारत, ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका और केन्या की टीम सेमीफाइनल में पहुंची थी। केन्या सेमीफाइनल में पहुंचने वाला पहला ऐसा देश बना जिसे टेस्ट क्रिकेट खेलने का दर्जा नहीं प्राप्त था। केन्या की टीम के प्रशिक्षक भारत के पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी व क्रिकेट विश्व कप 1983 को जीतने वाली भारतीय क्रिकेट टीम के सदस्य संदीप पाटिल थे।

सेमीफाइनल में भारत ने केन्‍या को हराकर और ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को हराकर फाइनल में जगह बनाई थी। फाइनल मुकाबले में सौरव गांगुली की कप्तानी में भारतीय टीम रिकी पोंटिंग के नेतृत्त्व वाली ऑस्ट्रेलिया की टीम से 125 रनों से दक्षिण अफ्रीका में जोहान्सबर्ग के वांडरर्स स्टेडियम में हार गई थी। इस तरह ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट विश्व कप का रिकार्ड तीसरी बार विजेता बना था। साथ ही वेस्ट इंडीज के 1975 और 1979 की दो लगातार विश्व कप जीत को भी ऑस्ट्रेलिया ने पीछे छोड़ दिया था। क्रिकेट विश्व कप 2003 के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया द्वारा बनाया गया 359 रन अभी तक के क्रिकेट विश्व कप फाइनल का सबसे बड़ा स्कोर है। फाइनल में कप्तान रिकी पोंटिंग ने 140 रन बनाए थे और उन्हें मैन ऑफ द मैच दिया गया था।

क्रिकेट विश्व कप में भारत के बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने सर्वाधिक 673 रन बनाए, जिसके लिए उन्हें मैन ऑफ द सीरीज़ का पुरस्कार दिया गया था। ज्ञातव्य हो कि सचिन तेंदुलकर द्वारा बनाया गया 673 रन, किसी भी विश्व कप में एक बल्लेबाज द्वारा बनाया गया सर्वाधिक रन है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here