अयोध्या फ़िर चर्चा में है। देश भर से लोग वहां पहुंचे हैं। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे दो दिन के लिए अयोध्या में हैं। आज उन्होंने सरकार से राम मंदिर बनाने की मांग की। ठाकरे ने कहा, ‘मैं भूलने वालों को याद दिलाने आया हूं कि जल्द मंदिर बनाइये। सीने में दम होना चाहिए, हृदय होना चाहिए। देश और विश्व के हिन्दू कंधे से कंधा मिलाकर मंदिर निर्माण में सहभागी होना चाहते हैं।’
अयोध्या में सरयू तट पर आरती के बाद ठाकरे परिवार का माला पहनाकर स्वागत किया गया। सरयू नदी के तट पर आरती के लिए पहुंचे उद्धव ठाकरे व उनकी पत्नी रश्मि और बेटे आदित्य ठाकरे भी मौजूद हैं।
ठाकरे ने कहा कि उन्हें मंदिर निर्माण का श्रेय नहीं चाहिए। अगर कोई श्रेय लेना चाहे तो ले लेकिन यह बताए कि हम कितने साल इंतजार करें। उन्होंने कहा कि राम मंदिर श्रद्धा का मामला है। सरकार को राम मंदिर के लिए अदालत के फैसले से पहले कानून लाना चाहिए।
उद्धव ठाकरे ने अयोध्या में ये भी कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी जब प्रधानमंत्री थे, तब मिली जुली सरकार थी। उस समय यह कार्य कठिन हो सकता था। लेकिन आज की सरकार ताकतवर सरकार है। ‘केन्द्र में भी और उत्तर प्रदेश में भी। अध्यादेश लाना चाहते हैं लाइये, कानून बनाना चाहते हैं, कानून बनाइये। शिवसेना उसका पूरा समर्थन करेगी।’
उद्धव ठाकरे ने कहा कि दिन, महीने, साल और पीढियां निकल गईं। साथ ही कटाक्ष किया, ‘मंदिर वहीं बनाएंगे लेकिन तारीख नहीं बताएंगे। पहले बताओ कि मंदिर कब बनाओगे? मुझे मंदिर निर्माण की तारीख चाहिए। बाकी बातें बाद में होती रहेंगी।’
अयोध्या पहुंचे उद्धव ठाकरे ने कहा- मैं राम लला के दर्शन करने आया हूं राजनीति करने नहीं। मैं सोए हुए कुंभकर्ण को जगाने आया हूं। हमें मंदिर बनाने की तारीख चाहिए।